DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

माले ने मुजफ्फरनगर दंगा मामले में मनाया विरोध दिवस

भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (माले) ने  गुरुवार को उत्तर प्रदेश समेत देश भर में विरोध दिवस मनाकर मुजफ्फरनगर दंगे के मामले में केन्द्र सरकार से हस्तक्षेप की मांग की।
     
पार्टी ने जिलाधिकारियों के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजकर कहा कि उत्तर प्रदेश की समाजवादी पार्टी (सपा) की सरकार मुजफ्फरनगर दंगा रोकने और उसके बाद दंगा पीडितों को राहत एवं पुनर्वास मुहैया कराने से जुडी अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन करने में विफल रही है।  
       
उन्होंने कहा कि लिहाजा संविधान की धारा 355 में प्रदत्त अधिकारों का उपयोग करते हुए केन्द्र सरकार प्रभावी हस्तक्षेप करे और राज्य सरकार को राहत कैम्पों को बंद करने से रोके। साथ ही दंगा पीडितों को पर्याप्त राहत एवं पुनर्वास उपलव्ध कराने के लिए इस धारा के तहत केन्द्र की ओर से राज्य सरकार को एक एडवाजरी जारी किया जाये और पूरे मामले की निगरानी राष्ट्रपति भवन करे।
       
माले ने मांग की है कि संविधान की इस धारा की शक्तियों का उपयोग करते हुए मुजफ्फरनगर दंगों तथा बलात्कार के मामलों में नामजद सभी अभियुक्तों को गिरफ्तार कर उनपर मुकदमा चलाने के लिए केन्द्र सरकार कदम उठाये। उच्चतम न्यायालय कोर्ट की देखरेख में साम्प्रदायिक हिंसा के मामलों की तहकीकात के लिए एक विशेष जांच दल गठित की जाये। संसद के आगामी सत्र में साम्प्रदायिक हिंसा विरोध बिल को पारित कर लागू किया जाये। भाकपा (माले) ने विरोध दिवस मनाते हुए इन मांगों को लेकर आज लखनऊ में गोमती नदी तट पर लक्ष्मण मेला पार्क में धरना दिया। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:माले ने मुजफ्फरनगर दंगा मामले में मनाया विरोध दिवस