DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पॉश इलाके के बच्चों को होगा फायदा

सुमति वोहरा का कहना है कि निजी स्कूलों द्वारा दिशा-निर्देश में किए गए बदलाव का फायदा पॉश कॉलोनी में रहने वाले परिवारों को सीधे तौर पर होगा। उन्होंने बताया कि मैनेजमेंट कोटे के खत्म होने के बाद निजी स्कूलों के लिए डोनेशन के नाम पर पैसे उगाही का माध्यम खत्म होने की स्थिति में अब उन्होंने यह नई तरकीब निकाली है। ऐसे में अगर इन बड़े स्कलों के साथ सख्ती नहीं बरती गई तो दिल्ली के अन्य स्कूल भी इसी तरह अपने हिसाब से दिशा-निर्देश में बदलाव करेंगे।

उप-राज्यपाल द्वारा जारी दिशा-निर्देश में दी गई थी हिदायत निजी स्कूलों द्वारा दिशा-निर्देश में किया जाने वाला इस लिए भी चौकाने वाला है क्योंकि पिछले दिनों उप-राज्यपाल ने अपने आदेश में सभी स्कूलों से कहा था कि वो नए दिशा-निर्देश को उसी तरह से लागू करें जिस तरह से उन्हें उपलब्ध कराया गया है। ऐसे में दिशा-निर्देश में अपनी सहूलियत के मुताबिक बदलाव को आदेश का उल्लघंन माना जाएगा और ऐसे स्कूलों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इस हिदायत के बाद भी स्कूल दिशा-निर्देश में बदलाव करने से पीछे नही हट रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पॉश इलाके के बच्चों को होगा फायदा