DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुनहरी यादें मगर कौन स्त्री

लार्डस के मैदान पर कपिल देव की टीम ने क्रिकेट में करिश्मा किया था। इसलिए पच्चीस बरस बाद उसका जश्न मनाना हमारी मजबूरी बन गई थी क्योंकि विदेशी खेल क्रिकेट से ही हमारी 1ी गौरवगाथा का श्रीगणेश हुआ था। भारतीय खेल प्रेमी शायद ध्यान चंद, के डी सिंह बाबू के प्रथम राष्ट्रीय खेलों के योगदान को भूल गए। यदि उन्हें खेल आयोजकों को भारत में हाकी का योगदान याद होता तो लखनऊ में उसी दिन भारतीय महिला हाकी टीम एयरपोर्ट पर आटो-रिक्शे पर लद-फद कर नहीं जाती। यह भी तो लखनऊ की सुनहरी यादें हो गई हैं।ड्ढr राजेन्द्र कुमार सिंह, रोहिणी, दिल्ली रक्षक ही भक्षक करनाल में महिला से बलात्कार के मामले में पुलिस महकमे के खिलाफ सामूहिक रूप से जिम्मेदारी तय करनी होगी। पूरी व्यवस्था के खिलाफ ही मुहिम चलानी होगी। यह कितना गंभीर मामला है कि हाई कोर्ट के निर्देश पर महिला की सुरक्षा के लिए जिस पुलिस को तैनात किया गया, उसी ने उसकी इज्जत लूट ली। करनाल के निसिंग थाने में एसएचओ ने महिला से बलात्कार किया जो कि बेहद संगीन है। इस मामले में एसपी को ही जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए। अपराध करने वाले को सख्त सजा दी जानी चाहिए। अलग से फास्ट ट्रैक कोर्ट भी बनाई जानी चाहिए।ड्ढr आर के गर्ग, सेक्टर-27, चंडीगढ़ परमाणु करार की कसौटी क्या हो? परमाणु करार से उत्पन्न मनमोहन सरकार व वाम दलों के बीच गतिरोध खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। सत्तारूढ़ गठबंधन में शामिल दल आपस में और विपक्ष भी परमाणु करार को लेकर विरोधाभासी बयान देते रहे हैं। मीडिया में भी करार समर्थक और विरोधी दोनों ही तरह की बातें उठती रही हैं। इससे देश की जनता परमाणु करार को लेकर कभी आश्वस्त नहीं हो पाई है। हमारा मानना है कि करार हो या न हो इसका फैसला सिर्फ देश के स्वाभिमान की कसौटी पर होना चाहिए।ड्ढr विवेक कुमार आखिर कब आएगा फैसला डेढ़ महीना गुजर चुका है, लेकिन अभी तक आरुषि-हेमराज हत्याकांड की असलियत सामने नहीं आ सकी है। नोएडा पुलिस को जब मीडिया के बढ़ते दबाव के चलते जांच कार्य से हटाया गया था और सीबीआई को जांच सौंपी गई थी तो उम्मीद थी कि देश की आला जांच एजेंसी इस हत्याकांड को जल्द सुलझा लेगी। पर ऐसा कुछ भी न हुआ। सीबीआई भी अंधेर में तीर छोड़ रही है। तमाम लोगों से पूछताछ के बाद भी सीबीआई अभी तक उस हथियार को बरामद नहीं कर पाई है जिससे आरुषि की हत्या की गई। ऐसे में इस हत्याकांड का खुलासा अब सीबीआई के लिए प्रतिष्ठा का सवाल बन गया है।ड्ढr किमी एरी, जालंधर पानी जमा है सड़क पर चंडीगढ़ के सेक्टर-31 स्थित एयरफोर्स कॉलोनी के साथ लगती सड़क पर कई दिनों से पानी रुका हुआ है, जो लोगों के लिए मुसीबत का सबब बन गया है। यहां कई विभागों के कार्यालय हैं। पानी की उचित निकासी न होने से समस्या गंभीर है। बारिश में खराब हालत हो जाती है। यदि पानी निकासी की जल्द व्यवस्था न की गई तो यहां बीमारियां फैल सकती हैं।ड्ढr तारादत्त शर्मा, सेक्टर-31 चंडीगढ

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सुनहरी यादें मगर कौन स्त्री