DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संवरा दक्षिण भारतीय कला का सौंदर्य

वाराणसी। वरिष्ठ संवाददाता

बीएचयू दृश्यकला संकाय में बुधवार को दक्षिण भारतीय कला का सौंदर्य बिखरा। शैक्षिक प्रदर्शनी ‘दक्षिण भारत के भूमिचित्र- कोलम’ का उद्घाटन कुलपति डॉ. लालजी सिंह ने किया। दीप प्रज्ज्वलन के साथ कृतियों का दरबार आमजन के लिए खुला। प्रदर्शनी में डॉ. राधाकृष्ण गणेशन ने दक्षिण भारत में खास अवसरों पर जमीन पर बनाए जाने वाले चित्र सजाये हैं। आईसीसीआर, भारतीय ललित कला अकादमी और दृश्यकला संकाय के सहयोग से सजी प्रदर्शनी 8 जनवरी तक देखी जा सकती है।

डॉ. गणेशन ने कोलम के अर्थो, निर्माण सामग्री व उनके अंकन के तकनीकी पक्ष की जानकारी दी । इस मौके पर सभी को नववर्ष की शुभकामना देते हुए कुलपति ने लिखा ‘नूतन वर्ष के प्रथम दिन की शुरुआत का यह अनूठा तरीका है। वास्तव में यह प्रदर्शनी दक्षिण भारतीय संस्कृति को उत्तर भारत में लेकर आयी है। इस मौके पर कुलसचवि प्रो. जीएस यादव, चीफ प्रॉक्टर प्रो. एके जोशी, प्रो. रवीन्द्रनाथ मिश्र, प्रो. एके सिंह, प्रो. राणा पीबी सिंह, तरुणकांति बसु, रामगोपाल सर्राफ आदि मौजूद थे।

स्वागत अनुराग सिंह ने किया। ं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:संवरा दक्षिण भारतीय कला का सौंदर्य