DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुजफ्फरनगर दंगा मामले में 225 के खिलाफ आरोपपत्र दायर

मुजफ्फरनगर दंगा मामले में 225 के खिलाफ आरोपपत्र दायर

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा गठित विशेष जांच दल (एसआईटी) ने मुजफ्फरनगर और आस-पास के इलाकों में सितंबर में हुए दंगों के सिलसिले में कम से कम 225 लोगों के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया है। पुलिस ने बुधवार को इस आशय की जानकारी दी है।

एसआईटी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनोज झा ने कहा कि एसआईटी ने दंगों के 28 मामलों में 225 लोगों के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया है, जबकि अन्य मामलों में 28 शिकायतों का पता नहीं लगाया जा सका है।

उन्होंने कहा कि साक्ष्य के अभाव में स्थानीय अदालत के समक्ष नौ मामलों में अंतिम रिपोर्ट पेश कर दी गई है। एसआईटी ने दंगे के विभिन्न मामलों में 522 आरोपियों की सूची भेजी है और स्थानीय पुलिस से इन्हें गिरफ्तार करने को कहा है।

झा ने कहा कि अदालत ने हत्या के 48 मामलों में 89 आरोपियों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया, जबकि तीन आरोपियों के खिलाफ प्रक्रिया शुरू हो गई। बहरहाल, एसआईटी सूत्रों ने कहा कि रेप के छह मामलों में 27 आरोपियों में से किसी को भी अभी तक गिरफ्तार नहीं किया जा सका है।

उन्होंने कहा कि जांच दल ने सभी छह आरोपियों का बयान दर्ज किया है। सूत्रों ने यह भी बताया कि पत्रकार राजेश वर्मा की हत्या के सिलसिले में अभी तक किसी आरोपी की पहचान नहीं की गई है। वर्मा की खबर एकत्र करने के दौरान गोली मार कर हत्या कर दी गई थी।

एसआईटी 571 मामलों की जांच कर रही है, जिसमें 6,386 लोगों को नामित किया गया है। इसमें 538 मामले मुजफ्फरनगर, 27 शामली, दो बागपत और एक-एक मेरठ और सहारनपुर के शामिल हैं। इन दंगों में 60 लोगों की मौत हो गई थी और कई हजार लोगों को घर छोड़कर भागना पड़ा था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुजफ्फरनगर दंगा मामले में 225 के खिलाफ आरोपपत्र दायर