DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डर्मेटोलॉजिस्ट त्वचा के पहरेदार

डर्मेटोलॉजिस्ट त्वचा के पहरेदार

युवा और आकर्षक दिखने की चाह प्रत्येक व्यक्ति में होती है। ऐसे में डर्मेटोलॉजिस्ट की जरूरत पड़ती है। एक डर्मेटोलॉजिस्ट त्वचा को चुस्त-दुरुस्त तो बनाता ही है, साथ ही त्वचा संबंधी कई रोगों का भी उपचार करता है। यह पेशा आज युवाओं की पसंद बनता जा रहा है।

त्वचा इंसान के शरीर का सबसे वृहद हिस्सा होता है। डर्मेटोलॉजिस्ट सिर्फ मुंहासों और निशानों से ही छुटकारा ही नहीं दिलाते, बल्कि अपने कार्य से उपचार की दिशा में कुछ विशेष करने का मौका भी पाते हैं। दरअसल, मेडिसिन की विभिन्न शाखाएं हैं, जिनमें से अपनी पसंद के किसी भी क्षेत्र में करियर बनाया जा सकता है। इनमें से कुछ शाखाएं युवाओं में बेहद लोकप्रिय हैं, परंतु हर शाखा में काम करने वाले चिकित्सकों को समाज में बेहद सम्मान की नजर से देखा जाता है।

कार्यक्षेत्र क्या होगा
त्वचा तथा उसके रोगों से संबंध रखने वाली मेडिसिन की शाखा को डर्मेटोलॉजी कहा जाता है। डर्मेटोलॉजिस्ट बढ़ती उम्र के लक्षणों को दूर करने में भी सहायक होते हैं। इस क्षेत्र में बढ़ती मांग तथा आय की वजह से अनेक डर्मेटोलॉजिस्ट अब कॉस्मेटिक डर्मेटोलॉजी के क्षेत्र में काम करने लगे हैं। कॉस्मेटोलॉजी के तहत लोग जवान दिखने के लिए उपचार लेते हैं, इसलिए लेजर, फिलर्स तथा बोटॉक्स के इस्तेमाल का गहन ज्ञान होना जरूरी है। इसके तहत त्वचा, बाल, नाखून संबंधी रोगों को दूर करने के लिए मेडिकल तथा सर्जिकल उपायों व विधियों का प्रयोग किया जाता है।

झाइयों से लेकर त्वचा संबंधी वंशानुगत विकारों के अलावा त्वचा कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों का उपचार भी डर्मेटोलॉजिस्ट ही करते हैं। रंग-रूप के प्रति अधिक झुकाव के कारण कॉस्मेटिक उपचारों की मांग भी बढ़ने लगी है। इसमें झुर्रियां दूर करने से लेकर, दाग-धब्बे छुपाने, त्वचा में कसाव पैदा करने, टैटू हटाने के लिए किए जाने वाले उपचार आदि शामिल होते हैं। इसके अलावा, त्वचा से संबंधित रोगों का पता लगाना और उनका उपचार करना। त्वचा का परीक्षण कर बीमारी की प्रकृति का पता लगाना, प्रभावित जगहों से रक्त सैंपल लेकर लैब में उनका परीक्षण करना। परीक्षण कर बीमारी पैदा करने वाले जीवाणुओं या उन परिस्थितियों का पता करना, जिनमें बीमारी हो रही है। दवाओं को अपनी देखरेख में मरीज को देने के साथ ही रेडियोथैरेपी और अन्य उपचार करना।

योग्यता
इस क्षेत्र में करियर बनाने के लिए सबसे पहले 12वीं कक्षा बायोलॉजी, फिजिक्स एवं कैमिस्ट्री विषयों सहित उत्तीर्ण करनी होगी। उसके बाद एमबीबीएस डिग्री लेनी होगी। इस क्षेत्र में आगे बढ़ने के लिए लिए तीन विकल्प होंगे -
* एमडी इन डर्मेटोलॉजी-तीन वर्षीय, दो वर्षीय डिप्लोमा कोर्स इन डर्मेटोलॉजी अथवा वेनेरियोलॉजी एंड लैप्रसी।
* हाउस जॉब (बतौर प्रशिक्षु डॉक्टर काम करना) करें, साथ ही नेशनल बोर्ड ऑफ एग्जामिनेशन का प्राइमरी एग्जाम पास करने के बाद तीन वर्षीय नेशनल बोर्ड ऑफ मेडिकल एग्जामिनेशन्स (डीएनबी) डिग्री इन डर्मेटोलॉजी पूरी करें।
* हाउस जॉब करें तथा डर्मेटोलॉजी में डिप्लोमा प्राप्त करने के बाद दो वर्षीय डीएनबी प्रोग्राम पूरा करें।

नौकरी की संभावनाएं
आप निजी अस्पतालों, नर्सिग होम्स या सरकारी चिकित्सा केन्द्रों में काम कर सकते हैं। हालांकि, अधिकतर डर्मेटोलॉजिस्ट्स प्राइवेट प्रैक्टिस करना अधिक पसंद करते हैं। वे मेडिकल कॉलेज में एक लेक्चरर की तरह भी काम कर सकते हैं। उनकी क्लीनिकल रिसर्च फैसेलिटीज में भी काफी मांग होती है।

कौशल
* डर्मेटोलॉजिस्ट्स को सौंदर्य की समझ के साथ ही रोगियों को समझाने के लिए काउंसलिंग में भी माहिर होना चाहिए।
* सर्जरी करने वाले डर्मेटोलॉजिट्स को काम को सफलतापूर्वक अंजाम देने के लिए बेहद दक्ष होना पड़ता है। इस पेशे में उच्च स्तर के धैर्य की आवश्यकता होती है तथा रोगियों के साथ नर्म एवं सहृदय व्यवहार करने में भी उन्हें समर्थ होना चाहिए।
* त्वचा का परीक्षण कर बीमारी की प्रकृति का पता लगाना, प्रभावित जगहों से खून के सैम्पल लेकर लैब में परीक्षण करना।
डर्मेटोलॉजिस्ट को अपने रोगियों की काउंसिलिंग करने के लिए बेहतर संवाद करना आना चाहिए।

वेतनमान
एक डर्मेटोलॉजिस्ट के तौर पर सरकारी अस्पतालों में एमडी इन डर्मेटोलॉजी करीब 5 लाख रुपए वार्षिक वेतन पाता है। किसी प्रतिष्ठित संस्थान में बतौर प्रोफेसर या डिपार्टमेंट हैड करीब 1.5 लाख रुपए प्रतिमाह कमाता है। निजी क्षेत्र में काम करने वाले डर्मेटोलॉजिस्ट्स की आय अस्पताल, उनके पद तथा कार्य के स्तर एवं उनके अनुभव पर निर्भर करती है। आमतौर पर यह 25 हजार रुपए प्रतिमाह से अधिक होती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:डर्मेटोलॉजिस्ट त्वचा के पहरेदार