DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अभिव्यक्ति और संतुष्टि

अभिव्यक्ति और संतुष्टि

यदि आप लीक से अलग हटकर कुछ रचनात्मक करना चाहते हैं तो मोटिवेशनल स्पीकिंग आपके लिए आदर्श करियर है।

इंसान अपने अंदर की कई प्रतिभाओं को पहचान नहीं पाता। बोलना (स्पीकिंग) भी एक ऐसी ही प्रतिभा है। क्या आप कल्पना कर सकते हैं कि यह बोलना ही आपको अच्छी सेलरी वाली जॉब दिला सकता है! जहां आप न केवल खुद को अच्छी तरह से व्यक्त कर सकते हैं, बल्कि दूसरों की जिंदगी में भी क्रांतिकारी परिवर्तन ला सकते हैं।

कोई भी मोटिवेशनल स्पीकर सामान्य व्यक्ति से अलग नहीं होता और न ही वह अतिरिक्त प्रतिभा के साथ पैदा होता है। वह निरंतर अभ्यास व सही दिशा-निर्देश के बल पर अपना गुण विकसित करता है।

आकर्षण आवश्यक
मोटिवेशनल स्पीकिंग में करियर बनाने के लिए कोई बंधा-बंधाया नियम नहीं है। एक अच्छा वक्ता श्रोताओं का ध्यान बरबस ही अपनी तरफ खींच लेता है। यदि वाकई वह ऐसा कर लेता है तो जीवन में वह कई सफलताओं का हकदार भी बन जाता है। इसमें प्रारंभ में यह जरूरी हो जाता है कि आप अपने जीवन की उपलब्धियों के विषय में बोलने का अभ्यास करें। यदि आप अपने जीवन से जुड़ी घटनाओं को बांटना चाहते हैं, जहां पर आपने सपनों को पूरा करने के लिए कठिन परिश्रम किया तो लोग उससे बहुत ज्यादा प्रभावित हो सकते हैं।

शब्द संपदा
मोटिवेशनल स्पीकर का एक मात्र उद्देश्य लोगों को नई संभावनाओं एवं लक्ष्यों के प्रति आकर्षित करना तथा उसे पूरा करने के लिए उनमें ऊर्जा भरना है। एक सफल स्पीकर यह भलीभांति जानता एवं पहचानता है कि उसकी स्पीच किस तरह से लोगों के जीवन को बदल सकती है। आपकी स्पीच उन्हें अपनी समस्याओं का समाधान करने तथा जीवन में व्यापक बदलाव लाने में मददगार साबित हो सकेगी। यदि लोग आपकी स्पीच में रुचि नहीं दर्शा रहे हैं तो इसका मतलब उन्हें आपके शब्दों पर भरोसा नहीं है। ऐसे में उन्हें शब्दों के जरिए बांधने की जरूरत होती है। एक्सपर्ट लोग अपनी स्पीच की शुरुआत ही ऐसे शब्दों से करते हैं कि श्रोता उन्हें नकार नहीं सकते, क्योंकि सफलता श्रोता के फीडबैक पर आधारित है।

मोटिवेशनल स्पीकर बनने के क्रम में यह भी आवश्यक है कि आप एक सामाजिक आदमी हों। इस क्षेत्र में सही दिशा-निर्देश एवं प्रशिक्षण आपको काफी हद तक सफल बना सकते हैं।

अनुभव
देखा जाए तो मोटिवेशनल स्पीकिंग के करियर के लिए कोई विशेष व्यवस्था नहीं है। इसमें आपको पूर्व अनुभवों के आधार पर कार्य करने की जरूरत होती है। साथ ही, आपके अंदर सफलता के ऊंचे लक्ष्यों के प्रति सकारात्मक अभिरुचि एवं दृढ़ इच्छाशक्ति होनी चाहिए। यह एक ऐसा जॉब है जिसके जरिए आप विभिन्न क्षेत्रों के प्रोफेशनल्स से रू-ब-रू होते हैं।

एक बुद्धिमान मोटिवेशनल स्पीकर को मोटिवेशन के सभी चरणों की जानकारी होनी चाहिए। हालांकि इसमें प्रोफेशनल कोर्स की कमी नजर आती है। पूरे भारत में कुछ प्रबंधन संस्थान अपनी शैक्षिक संरचना के अंतर्गत मोटिवेशनल स्पीकिंग को शामिल करते हैं।

प्रजेंटेशन पर निगाह
यदि आप लोगों को मोटिवेट कर रहे हैं तो आपकी आवाज एवं प्रेजेंटेशन में रुकावट नहीं होनी चाहिए। आपकी आवाज साफ हो। अपनी मुख्य बातों को अच्छी तरह से समझाने के लिए उसे दोहरा भी सकते हैं। कठिन शब्दों की बजाए हल्के एवं बोलचाल के शब्दों का ही प्रयोग करें। आपका स्टाइल एवं हावभाव भी ऐसा हो जिससे लोगों को समझने में आसानी हो। मोटिवेशनल स्पीकिंग में लोग आपका ज्ञान नहीं परखते, बल्कि यह देखते हैं कि बदलाव लाने के लिए आप उन्हें कैसे प्रभावित करते हैं। बातचीत के दौरान उसमें मजााक का पुट भी डालें।

सेलरी
ज्यादातर मोटिवेशनल स्पीकर कॉन्ट्रैक्ट बेसिस पर रखे जाते हैं। इसमें मिलने वाली राशि कंसल्टैंट की ही तरह होती है। यदि कोई स्पीकर कई संस्थाओं से जुटकर काम करता है तो उसमें कॉन्ट्रैक्ट के चलते पैसे की कमी नहीं होती। व्यक्तिगत स्तर पर संपर्क अच्छा होने पर काम के साथ-साथ पैकेज भी अधिक मिलता है। यदि आप खुद का सेटअप लगाते हैं तो उसमें आमदनी की कोई निश्चित सीमा नहीं होती। इसमें भागदौड़ भी करनी पड़ती है, लेकिन उसकी एवज में पैसा भी खूब मिलता है।

प्रशिक्षण संस्थान
मोटिवेशनल स्पीकर सरीखा गुर सीखने का सबसे अच्छा जरिया वर्कशॉप होते हैं। ऐसे कई स्पीकर हैं जो वर्कशॉप के रूप में लोगों को ट्रेंड बनाते हैं। इस क्षेत्र में कुछ संस्थान भी हैं : फोर स्कूल ऑफ मैनेजमेंट
बी-18, कुतुब इंडस्ट्रियल एरिया, नई दिल्ली-110016, वेबसाइट :  www.fsm.ac.in
टाई हावार्ड मोटिवेशनल स्पीकर ट्रेनिंग स्कूल
बाल्टीमोर, मेरीलैंड, संयुक्त राज्य अमेरिका-21228, वेबसाइट :  tyhowardseminars.com

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अभिव्यक्ति और संतुष्टि