DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विकलांगों के साथ नाइंसाफी बर्दाश्त नहीं

शिक्षक नियोजन में विकलांगों के साथ नाइन्साफी बर्दाश्त नहीं की जायेगी। नियमानुसार मेधा सूची में आरक्षण का लाभ उन्हें नहीं मिला तो कार्रवाई होगी। सामान्य श्र्रेणी के कट ऑफ माक्र्स से कम अंक पाने वाले विकलांगों को ही आरक्षित सीटों पर बहाल किया जायेगा। उससे अधिक नंबर वालों को बहाल कर आरक्षण का कोटा भरने वालों पर सरकार की नजर चली गई है। नि:शक्तता आयुक्त महेश्वर प्रसाद सिंह ने ऐसे एक मामले में कार्रवाई भी की है। गड़बड़ी मिलने के बाद उन्होंने उक्त निर्देश जारी करते हुए उसकी एक प्रति मानव संसाधन विभाग के प्रधान सचिव को भेजी है। प्रधान सचिव से उन्होंने अनुरोध किया है कि सभी जिलाधिकारियों और जिलाशिक्षा अधीक्षकों को भी इससे अवगत करा दें।ड्ढr ड्ढr केन्द्रीय नि:शक्तता मुख्य आयुक्त मनोज कुमार और राज्य नि:शक्तता आयुक्त महेश्वर प्रसाद सिंह को कैमूर जिले के मोबाईल कोर्ट में सुनवाई के दौरान ऐसी शिकायत मिली तो विभाग की आंखें खुल गई। वहां अधिक अंक पाने वाले विकलांग शंभू चौरसिया की बहाली न कर कम अंक वाले नंद कुमार सिंह की बहाली कर दी गई। हालांकि स्थानीय अधिकारियों ने भी इस गड़बड़ी की शिकायत पर नियोजन रद्द कर दिया। लेकिन नि:शक्तता आयुक्त ने इसे गैर कानूनी और विकलांगों के साथ अन्याय बताया है। उन्होंने विकलांगों की गलत सूची बनाने वाले चैनपुर के बढ़ौना पंचायत के मुखिया एवं अन्य संबंधित कर्मियों पर स्थानीय थाने में प्राथमिकी दर्ज कराने का आदेश दिया है। इसके साथ ही सभी पंचायतों की मेधा सूची की अद्यतन स्थिति की जानकारी भी मांगा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: विकलांगों के साथ नाइंसाफी बर्दाश्त नहीं