DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

श्रमदान से सड़क बना रहे पालीगंज के लोग

परियों के ग्रामीणों ने अब खुद अपनी किस्मत संवारने की ठानी है। गांव को श्रमदान से दस फीट चौड़ी सड़क बनाने में ग्रामीण कई दिनों से लगे है। करीब डेढ़ हाार फीट लंबी पहले की पगडंडी को दस फीट चौड़ी सड़क के रूप में आकार लेता देख बुजुर्ग वासुदेव महतो काफी खुश थे। कहा खेतों में जाने का एकमात्र यही रास्ता था लेकिन बरसात में आहर का पानी जमा रहता था। लोग कमर तक पानी में घुसकर बांध पर चढ़ते थे। काफी दिक्कत होती थी। अक्षय लाल सिंह, रामलड्डू सिंह आदि ने बताया कि एक बार नहीं सैकड़ों बार विधायक, मुखिया समेत तामाम प्रतिनिधियों से इस पथ को बनाने की गुहार लगायी, पर किसी ने ध्यान नही दिया।ड्ढr ड्ढr नरेगा योजना से भी जब काम नहीं हुआ तो ग्रामीणों ने मीटिंग कर श्रमदान का फैसला किया। पिछले तीन दिनों से करीब सौ की संख्या में लोग श्रमदान में काफी उत्साह से लगे हैं। ग्रामीणों की मेहनत का असर अब दिखने लगा है। रविवार को जब यह संवाददाता मौके पर पहुंचा तो लोग पूर जोश में दिखे। क्या बच्चे क्या जवान सभी कुदाल, टोकरी आदि के साथ सड़क बनाने में पूर मन से लगे थे। इनका जज्बा देखते ही बनता था।ड्ढr ड्ढr बबन सिंह, विनोद सिंह, रामदास महतो, छोटे सिंह आदि ने बताया कि इस काम में पूर गांव का सहयोग मिल रहा है। लोग जिस उत्साह से काम कर रहे हैं सड़क दो तीन दिनों में पूरी तरह बनक र तैयार हो जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: श्रमदान से सड़क बना रहे पालीगंज के लोग