अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डोमेसाइल को लेकर अहम बैठक दो को

राज्य की स्थानीयता (डोमेसाइल) की परिभाषा निर्धारित करने के लिए मुख्यमंत्री मधु कोड़ा ने दो जुलाई को बैठक बुलायी है। प्रोजेक्ट सभागार में आहूत बैठक में स्थानीयता की परिभाषा निर्धारित करने के लिए गठित मंत्रिमंडलीय उप समिति के सदस्यों को आमंत्रित किया गया है। इसके अलावा उप समिति के सभी सदस्यों, मुख्य सचिव, महाधिवक्ता, प्रधान सचिव, कार्मिक सचिव, विधि सचिवों को उपस्ेिथत रहने का आदेश दिया है।ड्ढr जानकारी के अनुसार डोमेसाइल की परिभाषा इस बैठक में निर्धारित कर ली जायेगी। सरकार ने इस विषय पर फैसला भी ले लिया है। सदस्यों की सहमति के बाद इसकी घोषणा कर दी जायेगी।ड्ढr जानकार लोगों का मानना है कि राज्य बनने से पूर्व से जो यहां के निवासी हैं, उन्हें स्थानीय मान लिया जायेगा। स्वास्थ्य मंत्री भानू प्रताप शाही ने भी इसी तरह की मांग की थी। उन्होंने कहा था कि झारखंड बनने के बाद आज तक डोमेसाइल नीति नहीं बनी, यह दुर्भाग्यपूर्ण है।ड्ढr डोमेसाइल विवाद को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी भी चर्चा में रहे। स्थानीय लोग भी डोमेसाइल को लेकर आंदोलनरत रहे थे। मरांडी ने 1े खतियान में उल्लेखित नाम के आधार पर स्थानीयता की घोषणा की थी। इसी आधार पर आज भी निवास प्रमाण पत्र निर्गत किये जाते हैं। खतियान के बगैर स्थानीयता का प्रमाण पत्र निर्गत नहीं किया जाता। शैक्षणिक कार्यो के लिए मात्र 10 वर्ष का निवास स्थान प्रमाण निर्गत किया जाता है, इस कारण वर्षो से यहां निवास कर रहे लोगों में आक्रोश है। इस विवाद का निष्पादन दो जुलाई की अहम बैठक में होने की उम्मीद है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: डोमेसाइल को लेकर अहम बैठक दो को