DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ााहुााियों का रिपोर्ट कार्ड तय करंगी राजनीति की दिशा

वाराणसी में माफिया मुख्तार अंसारी और अजय राय का बाहुबल भारी है या पूर्व भाजपा अध्यक्ष मुरली मनोहर जोशी या पूर्व सांसद राजेश मिश्र का सियासी कद। यह तय होगा 16 मई को आम चुनावों के नतीजों से। उन्नाव के परिणाम तय करेंगे कि बहुचर्चित अरुणशंकर शुक्ला उर्फ अन्ना के आतंक से सियासत चलेगी या फिर कांग्रेसी अन्नू टंडन या सपा के दीपक कुमार की जमीनी सियासत।ड्ढr उत्तर प्रदेश में राजनीति की दिशा और वोटरों का रुझान में क्या बदलाव आ रहा है, यह समझने के लिए भी आम चुनावों के नतीजे काफी महत्वपूर्ण साबित होने वाले हैं। आपराधिक पृष्ठभूमि के प्रत्याशियों को टिकट देने के लिहाज से यूपी के राजनीतिक दल पूरे देश में तीसरे स्थान पर थे। यहाँ से 122 ऐसे प्रत्याशी थे जिनके ऊपर मुकदमे चल रहे हैं। इनमें से काफी ऐसे हैं जिनके ऊपर राजनीतिक धरना प्रदर्शनों या सामान्य धाराओं के मुकदमे हैं लेकिन इनमें दर्जनों ऐसे हैं जिनकी आम पहचान माफिया की है।ड्ढr बसपा, सपा और भाजपा तीनों ने ही ऐसे प्रत्याशियों को टिकट देने में कोताही नहीं बरती। इस बार इलेक्शन वॉच और पीपुल्स फॉर डेमोक्रेटिक रिफार्म्स जसे संगठनों ने लोगों को ऐसे प्रत्याशियों के बारे में जागरूक करने के बारे में अभियान चलाया था। अब नतीजे बताएँगे कि इनका कितना असर हुआ और जनता वाकई में जागरूक हुई या नहीं। इससे यह भी पता चलेगा कि आम लोगों में बाहुबलियों की स्वीकार्यता कम हुई है या बढ़ी। इन बाहुबलियों पर रहेंगी निगाहेंड्ढr वाराणसी-मुख्तार अंसारी (बसपा), गाजीपुर-अफााल अंसारी (बसपा), आजमगढ़-रमाकांत यादव (भाजपा), प्रतापगढ़-अतीकअहमद (अपना दल), श्रावस्ती-रिावान जहीर (बसपा), उन्नाव-अरुण शंकर शुक्ल अन्ना (बसपा), गोंडा-ब्रजभूषण शरण सिंह (सपा), धौरहरा-ओमप्रकाश गुप्ता (सपा), बाँसगाँव-कमलेश पासवान (भाजपा), मुजफ्फरनगर- कादिर राणा (बसपा), बागपत-मुकेश शर्मा (बसपा), बदायूँ-डीपी यादव (बसपा), जौनपुर-धनंजय सिाहुााियों का रिपोर्ट कार्ड तय करंगी राजनीति की दिशाांह (बसपा), हमीरपुर-अशोक चंदेल (सपा), कौशाम्बी-गिरीश पासी (बसपा), मिर्जापुर-बाल कुमार पटेल (सपा)ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ााहुााियों का रिपोर्ट कार्ड तय करंगी राजनीति की दिशा