DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

धोनी-भज्चाी को पैसा ज्यादा प्यारा

भारतीय गेंदबाज हरभजन सिंह और कप्तान महेंद्र सिंह धोनी मंगलवार को पद्म श्री लेने राष्ट्रपति भवन नहीं पहुंचे। मंगलवार को दोनों का राष्ट्रपति से मिलने और सम्मान ग्रहण करने का कार्यक्रम था। खबरों के मुताबिक विज्ञापन की शूटिंग में व्यस्त होने की वजह से दोनों राष्ट्रपति से मिलकर पद्मश्री लेने नहीं जा सके। गौरतलब है कि धोनी और हरभजन सिंह मंगलवार को देश में ही मौजूद थे और अपने-अपने विज्ञापन एजेंसियों के साथ शूटिंग करने में व्यस्त थे। इस दौरान दोनों के पास इतना वक्त नहीं था कि वे देश के इतने बड़े सम्मान को लेने राष्ट्रपति भवन आ पाते। हालांकि पूर मामले को तूल पकड़ते देख हरभजन ने अपनी ओर से सफाई देते हुए कहा कि मेरी भी इच्छा थी अवार्ड लेने आने की। लेकिन कुछ फैमिली कमिटमेन्ट थे।ड्ढr ड्ढr लम्बे टूर के बाद वापस आया था और सिर्फ तीन दिन थे परिवार के साथ रहने के लिये। आज भी मैं यहां नहीं आता, ये तो रास्ते में था और सिर्फ आधे घंटे के लिए आया हूं। फिर भी अगर किसी को बुरा लगा है तो अगली बार जब अच्छी परफॉरमेन्स करके अवार्ड जीतूंगा तो 2 दिन पहले जाकर बैठ जाऊंगा। धोनी और हरभजन के न आने से ऐसा लगता है कि इन दोनों को इस सम्मान की जरूरत ही नहीं थी। इसे लापरवाही कहें या फिर जानबृूझ कर की गई गलती। इसी मुद्दे पर पूर्व हॉकी खिलाड़ी असलम शेर खान ने कहा कि क्रिकेटरों के लिए क्रिकेट महज एक व्यवसाय बन कर रह गया है। जबकि पूर्व क्रिकेटर अंशुमन गायकवाड़ का कहना था कि ये एक राष्ट्रीय सम्मान है खिलाड़ियों को किसी भी हाल में लेने पहुंचना चाहिए था। बीसीसीआई ने पूर मामले की जांच करने और दोनों खिलाड़ियों से जवाब तलब दिया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: धोनी-भज्चाी को पैसा ज्यादा प्यारा