DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

परंपरा पर व्यावसायिक दृष्टिकोण हावी : केशरी

समाजसेवी विशेश्वर प्रसाद केशरी ने कहा है कि जगन्नाथपुर मंदिर की ऐतिहासिक परंपरा पर व्यावसायिक दृष्टिकोण हावी हो गया है। इस मंदिर की स्थापना मानवीय मूल्यों की रक्षा के लिए की गयी थी। आज स्थिति बदल गयी है। मंदिर से जुड़े लोग इसका इस्तेमाल व्यावसायिक दृष्टिकोण से कर रहे हैं। केशरी जगन्नाथपुर स्कूल में मंगलवार को जगन्नाथपुर मंदिर का इतिहास एवं संस्कृति विषय पर आयोजित परिचर्चा में बोल रहे थे। उन्होंने मंदिर की संस्कृति की रक्षा के लिए प्रशासन से मिल कर इससे खतियानी सेवकों को जोड़ने का आग्रह करने का सुझाव दिया। ठाकुर विश्वनाथ शाहदेव फाउंडेशन द्वारा आयोजित इस परिचर्चा में लाल प्रवीण नाथ शाहदेव, शेखावत अली, जगन्नाथ महतो, शांति देवी, संध्या देवी, सीताराम रावार और शिव शंकर रावार ने भाग लिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: परंपरा पर व्यावसायिक दृष्टिकोण हावी : केशरी