DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजनेताओं-अफसरों का चहेता है बीरबल

भाकपा माओवादी झारखंड सैन्य प्रमुख बीरबल जी उर्फ कुणा उर्फ सुरेश सिंह झारखंड के राजनेताओं और अफसरों के चहेता है । अपनी कार्यशैली के कारण वह सभी वर्गो में लोकप्रिय रहा। यही कारण है कि उसकी बैठक कुछ मंत्रियों की केबिन में होती थी। वे कुछ विधायकों के वाहनों से सवारी भी करता थ। कुछ बड़े अफसर उसके दरबार में हाजिरी लगाते थे। मेदिनीनगर के एक प्रमुख व्यवसायी के बेडरूम तक उसकी पहुंच थी। बीरबल की गिरफ्तारी से उसके पैतृक गांव विश्रामपुर थाना क्षेत्र के करमडी में सन्नाटा पसरा हुआ है। मिडिल स्कूल में उसके साथ पढ़े एक मित्र ने बताया कि झारखंड के राजनेता और अफसरों से उसके काफी मधुर संबंध थे। एक पूर्व मंत्री तो बीरबल को सहयोगी के रूप में सरकारी कार्यालय तक ले जाते थेड्ढr एलएमजी के साथ वह लैपटॉप भी लेकर चलता था। सारा आंकड़ा उसी में संग्रहीत होता था। उधर, बीरबल जी की गिरफ्तारी से संगठन को गहरा धक्का लगा है। सैन्य संगठन के लिए यह बड़ा नुकसान माना जा रहा है। नुकसान की भरपाई और आगे की रणनीति बनाने के लिए मंगलवार को बरवाडीह थाना क्षेत्र के बीहड़ों में गुप्त बैठक होने की चर्चा है। बैठक में शीर्ष नेता शामिल हुए हैं। बीरबल की गिरफ्तारी के खिलाफ पलामू जिले के लेस्लीगंज और राजहरा आदि क्षेत्रों में सोमवार की शाम मशाल जुलूस निकाला गया। दो जुलाई की बंदी में किसी अनहोनी का कयास लगाया जा रहा है। शहीद का शव पहुंचते ही मिहिााम आंसुओं में डूबाड्ढr शहीद डीएसपी प्रमोद कुमार का शव रांची से जसे ही मिहिााम पहुंचा पूरा शहर आंसूओं में डूब गया। कुर्मीपाड़ा स्थित निवास पर करीब छह बजे शाम को शहीद डीएसपी का शव पहुंचा। तिरंगा में लिपटा ताबूत को देख बूढ़े मां-पिता के सामने जसे पहाड़ टूट पड़ा। घर वाले पथराई आंखों के उसे एक टक निहार रहे थे। शून्य में देखती आंखों से सिर्फ आंसू निकल रहे थे कोई कुछ कह पाने की स्थिति में नहीं था।ड्ढr बहन, भाई, भाभी सभी रो-रोकर बेहाल हो रहे थे। शव को पकड़कर परिान जरूर बिलख-बिलख रहे थे पर वहां खड़ा पूरा जनसमूह उनके साथ रो रहा था। शव को डीएसपी, पुलिस निरीक्षक, पंचायत नगर अध्यक्ष, बालमुकुंद दास, उपाध्यक्ष कमल गुप्ता ने कंधा देते हुए घर तक पहुंचाया। शहीर प्रमोद कुमार को उनके आवास पर प्रशासन की ओर से आईाी, डीआईाी, उपायुक्त, जामताड़ा, एसपी जामताड़ा, डीएसपी, पुलिस निरीक्षक सहित विधायक विष्णु प्रसाद भैया, पूर्व सांसद सूरा मंडल, इंडियन रड क्रास सोसाइटी जिला शाखा जामताड़ा के सचिव राजेन्द्र शर्मा, झामुमो नगर अध्यक्ष प्रो. कैलाश प्रसाद साव, राजद जिलाध्यक्ष भोला यादव सहित भारी संख्या में उनके शुभचिंतकों ने शव पर पुष्प अर्पित किये। जसे ही डीएसपी प्रमोद कुमार का शव शहर में प्रवेश होने की सूचना लोगों को मिली, नंगे पांव लोग उस दिशा में दौड़ पड़े। अजय नदी के तट पर प्रशासन द्वारा गार्ड ऑफ ऑनर के बाद शव को पंचतत्व में विलीन कर दिया गया।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राजनेताओं-अफसरों का चहेता है बीरबल