DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खगौल में डाक्टर की निर्मम हत्या

मंगलवार को जब देश के चिकित्सक बिहार में जन्में डा. विधान चंद्र राय की जयंती पर डाक्टर्स-डे मनाने की तैयारी कर रहे थे वहीं राजधानी से सटे खगौल (दानापुर) में न्यूरो सर्जन अजय कुमार सिन्हा की निर्मम हत्या कर दी गई। सूचना के बाद खगौल पुलिस ने रलवे आवास सं. 44 से शव को बरामद किया। घटना के बाद से ही घर का नौकर सह कम्पाउंडर मंटू फरार है।ड्ढr ड्ढr घटना की सूचना पाकर सीनियर एसपी अमित कुमार, सिटीएसपी अनवर हुसैन व दानापुर के एएसपी निशांत कुमार तिवारी सहित खगौल थानाध्यक्ष ओएन शर्मा, शास्त्रीनगर थानाध्यक्ष कामोद प्रसाद ने घटना स्थल की छानबीन की। सीनियर एसपी श्री कुमार ने बताया कि फिलहाल इस घटना में घर का 16 वर्षीय नौकर मंटू का हाथ नजर आ रहा है। डा. अजय की बाईं कनपटी पर तेज धार वाले हथियार से वार किए जाने के निशान मिले हैं। पुलिस को घर का दो आलमीरा खुला मिला है, पर इसमें से क्या गायब है यह उनकी पत्नी डा. सुजाता राय के आने पर पता चलेगा। डा. सुजाता राय बारह दिन पूर्व अपने मैके लखनऊ गयी हैं। वह दानापुर रल मंडल अस्पताल में वरिष्ठ स्त्री रोग विशेषज्ञ के रूप में पदस्थापित हैं।ड्ढr ड्ढr घर में डा. अजय का छोटा भाई पप्पू एवं मां रहती हैं। डा. अजय के भाई पप्पू एवं घर की नौकरानी नेहा का कहना है कि डाक्टर साहब करीब नौ बजे रात्रि में गाड़ी से पटना गये कब लौटे पता नहीं, घर का नौकर मंटू रात में यहीं था। उसी के पास गेट की चाबी रहती थी जो गेट पर सुबह में फेंकी मिली। सुबह जब ये उठकर कमरा में गये तो डाक्टर साहब अपने बेड पर खून से लथपथ पड़े थे। दरवाजा भी खुला हुआ था। डा. अजय के गले का सोने का चैन भी मौजूद पाया गया। मालूम हो कि डा. अजय वर्ष 05 में मुजफ्फरपुर स्थित सत्यनारायण नर्सिंग होम में मुठभेड़ में घायल माओवादी का इलाज करने के आरोप में कई महीनों तक जेल में भी रहे। बाद में वे इस मामले में न्यायालय से बरी कर दिए गए। घटना की सूचना पाकर डीआरएम बीडी गर्ग, आरपीएफ के कमांडेट महेश्वर सिंह, रल चिकित्सक भी घटनास्थल पर पहुंचे। लाश को पोस्टमार्टम के लिए दानापुर सदर अस्पताल भेज दिया गया है तथा उस कमर को सील कर दिया गया जहां वारदात हुई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: खगौल में डाक्टर की निर्मम हत्या