DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भंगियों के बच्चों का हुआ स्कूल में नामांकन

नाम राहुल कुमार, उर्म 14 वर्ष, नाम चांदनी कुमारी उर्म 12 वर्ष, नाम तन्नु कुमारी उर्म 10 वर्ष ये सभी बच्चे भंगी परिवार से आते हैं। इन बच्चों को विश्वास ही नहीं था कि ये भी एक दिन विद्यालय मंे पढ़ने-लिखने जाएंगे। वर्षो से इनके माता -पिता उन्हें विद्यालय में नामांकन के लिए चक्कर लगा रहे थे, लेकिन भंगी होने की वजह से किसी विद्यालय में दाखिला नहीं हो पा रहा था। वक्त ने करवट बदला और नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी के कड़े रुख के बाद आखिरकार इन बच्चों को नामांकन प्राथमिक विद्यालय बालक, चुनौरी कुआं में प्रथम वर्ग में कराया गया।ड्ढr ड्ढr इस बात को लेकर भंगी परिवारों के बीच हर्ष है। उसके अलावा अन्य भंगियों ने भी अपने बच्चों के नामांकन की पेशकश की है। मिली जानकारी के अनुसार प्रेम भंगी ने अपने बच्चों के नामांकन के लिए विद्यालय का दरवाजा खटखटाया था, लेकिन हर जगह उन्हें निराशा हाथ लगी थी। तब जाकर शिकायत की। वहीं कार्यपालक पदाधिकारी संदीप शेखर प्रियदर्शी ने बताया कि अधिक उम्र होने के कारण उन बच्चों का नामांकन प्राथमिक विद्यायल द्वारा लेने के इनकार कर दिया गया था। इसके लिए उन्होंने उक्त विद्यालय की प्राचार्या को कानूनी कार्रवाई की धमकी दी थी। इसके बाद नामांकन प्राथमिक विद्यालय में लिया गया।ड्ढr ड्ढr दूसरी तरफ इस मामले को लेकर प्राचार्या से बात करने का प्रयास किया गया, लेकिन उनसे बात नहीं हो सकी। बहरहाल, एक तरफ सरकार द्वारा शिक्षा के नाम पर लाखों-करोड़ों रुपये खर्च किये जा रहे हैं। बच्चों को विद्यालय तक लाने के लिए थानों की मदद ली जा रही है, वहीं भंगी बच्चों के साथ इस तरह का व्यवहार अब भी समाज की तस्वीर पेश कर रही है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भंगियों के बच्चों का हुआ स्कूल में नामांकन