अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रशासनिक सेवा के अफसर की पत्नी समेत हत्या

खूनी खेल जारी रखते हुए खगौल में डॉक्टर की हत्या के अगले ही दिन अपराधियों ने पटना नगर निगम के नगर सचिव और बिहार प्रशासनिक सेवा के 27 वीं बैच के अधिकारी सैयद मंजर आलम (55) और उनकी पत्नी नसरीन जमाल (50) की हत्या कर पब्लिक से लेकर पुलिस मुख्यालय तक को सन्न कर दिया। फुलवारीशरीफ थानांतर्गत हारूण नगर मुहल्ले के सेक्टर 2 स्थित घर (58ए.2) में बुधवार को भोर में दुस्साहसी अपराधियों ने सोते समय दंपति को धारदार हथियार से प्रहार कर मार डाला। छानबीन के क्रम में फोरंसिक साइंस लैबोरट्री और फिंगर एक्सपर्ट की टीम ने गेट, खून के धब्बे आलमीरा, आदि जगहों से नमूने एकत्र किये हैं। डॉग स्क्वायड को भी बुलया गया पर परिणाम सिफर ही रहा।ड्ढr ड्ढr गौरतलब है कि लगभग दस दिन पहले शेखपुरा जिला के अरियरि ब्लॉक के बीडीओ अरविन्द कुमार मिश्र की हत्या भी अपराधियों ने उनके आवास पर ही कर दी थी। इस मामले में अपराधियों ने घर के तीन आलमारी को तोड़ते हुए करीब 20 हजार नकद और नसरीन के जेवरात भी लूट लिये। तलाशी के दौरान पूरे कमर में अपराधियों ने सामान ईधर-उधर फेंक दिया । नगर सचिव की बंदूक सुरक्षितड्ढr पटना फुलवारीशरीफ (हि.टी.)। बिहार प्रशासनिक सेवा के अधिकारी सैयद मंजर आलम (55) और उनकी पत्नी नसरीन जमाल (50) की हत्या के मामले में नगर सचिव की लाइसेंसी बंदूक और बड़ी संख्या में जेवरात को अपराधियों ने छुआ तक नहीं। चौंकाने वाली बात तो यह भी रही कि घर में लगे टेलीफोन का तार काटने के अलावा हत्यार मंजर आलम की एक मोबाइल भी लेते गये। घटना के समय दंपति के अलावा उनकी छोटी बेटी शीबा घर में सो रही थी। दरअसल अपराधियों का दल बाउंड्री फांद कर अंदर प्रवेश कर गया। इसके बाद घर के बाहर लगे ग्रिल को काटते हुए एक किवाड़ की कुंडी को तोड़ कर अपराधी कमरे में पहुंच गये। फिर बिजली का स्वीच ऑफ करके अपराधियों ने खूनी तांडव करना शुरू कर दिया। माता-पिता के कमर से कनेक्टेड कमर में सो रही बेटी शीबा खटपट की आवाज सुन कर जगी तो उसे कुछ अनहोनी की आशंका हुई। हालांकि शातिर अपराधियों ने उसके कमर का एक गेट बाहर से बंद कर दिया था। बकौल शीबा करीब आधे घंटे तक अपराधी धारदार हथियारों से उसके माता-पिता पर वार करते रहे। बाद में दूसर गेट से जब वह बाहर निकली और बिजली जलाई तो खून से लथपथ मां-पिता को देखकर कर होश उड़ गये। फिर अपने मोबाइल से सुलतानगंज में रहने वाली बहन नाजिया को सूचना दी। वहीं उचित मुअवाजे और घटनास्थल पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आने को लेकर घंटों लाश कमर में ही पड़ा रहा। परिानों ने सरकार से गुहार लगाई है कि मामले की सीबीआई जांच हो। बहरहाल डीएम से आश्वासन मिलने के बाद परिानों ने लगभग दो बजे दिन में पोस्टमार्टम के लिए शवों को पुलिस के हवाले किया । इस बीच एसएसपी अमित कुमार ने बताया कि हत्या के कारणों को लेकर फिलहाल स्थिति स्पष्ट नहीं है। पुलिस अनुसंधान में लगी है। छानबीन पूरी होने के बाद ही असलियत सामने आयेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: प्रशासनिक सेवा के अफसर की पत्नी समेत हत्या