अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विश्व बैंक ने मंहगाई के प्रति जी-8 को चेताया

विश्व बैंक के अध्यक्ष राबर्ट जोएलिक ने कहा कि तेल और खाद्यान्न की बढ़ती कीमतें खतरनाक स्तर पर जा पहुंची हैं। उन्होंने जी-8 देशों और प्रमुख तेल उत्पादक देशों के नेताओं को आगाह करते हुए इस चुनौती से निपटने के लिए प्रभावी कदम उठाने की अपील की। जोएलिक ने जापान में होने वाली जी-8 देशों के नेताओं को लिखे पत्र में कहा है कि बढ़ती कीमतों के कारण पूरी दुनिया की हालत खतरनाक होती जा रही है। उन्होंने पत्र मंे कहा कि विश्व बैंक खाद्य कार्यक्रम और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष के अनुमान के अनुसार इस संकट से लोगों पर पड़ने वाले प्रभाव से निपटने के लिए 10 अरब डालर की आवश्यकता है। जोएलिक ने कहा कि विश्व में बढ़ती कीमतों का संकट प्राकृतिक नहीं है और यह कुछ मनुष्यों के द्वारा पैदा किया गया है। जोएलिक ने जी-8 के नेताओं से आग्रह किया कि वह प्रमुख तेल उत्पादक राष्ट्रों से मिलकर इस समस्या का हल खोजने की कोशिश करें। उन्होंने कहा कि विश्व व्यवस्था को बनाए रखने के लिए बढ़ती कीमतों के संकट को हल करना आवश्यक है। जोएलिक ने कहा कि तेल और अनाजों की बढ़ती कीमतों के कारण कई देशों में गरीबी और सामाजिक अस्थिरता का खतरा पैदा हो गया है। शहरी गरीबों पर तो अनाज और तेल की बढ़ती कीमतों के कारण दोहरी मार पड़ी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: विश्व बैंक ने मंहगाई के प्रति जी-8 को चेताया