अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रिलायंस-एमटीएन समझौता रविवार तक

अनिल अंबानी के नियंत्रण वाली रिलायंस कम्युनिकेशंस और दक्षिण अफ्रीका की चोटी की मोबाइल कंपनी एमटीएन के बीच रविवार तक कोई समझौता होना तय माना जा रहा है। हालांकि अभी यह तय नहीं कि समझौते के बाद रिलायंस कम्युनिकेशंस की क्या शक्ल होगी। पर जानकार कह रहे हैं कि समझौते के बाद रिलायंस कम्युनिकेशंस एमटीएन की सहयोगी कंपनी बन जाएगी और अनिल अंबानी उसके सबसे बड़े शेयर होल्डर होंगे। चर्चा यह भी है कि अनिल अंबानी नई कंपनी की51 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीद लेंगे। महत्वपूर्ण है कि कुछ समय पहले रिलायंस इंडस्ट्रीा लिमिटेड के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने सम्भावित समझौते को लेकर कुछ आपत्तियां जताई थीं। उसके बाद दोनों भाइयों के बीच आरोप- प्रत्यारोप का कुछ दिनों तक दौर भी चला था। पर बाद में सब कुछ सामान्य हो गया। सूत्र कह रहे हैं कि नई कंपनी के चेयरमैन और वाइस चेयरमैन का खुलासा जल्दी ही हो जाएगा। अनिल अंबानी नई कंपनी के अध्यक्ष हो सकते हैं। सूत्रों के अनुसार रिलायंस कम्युनिकेशंस ने कई बैंकों और वित्तीय संस्थानों से बात कर ली है, जो उन्हें एमटीएन की हिस्सेदारी को खरीदने में सहयोग करंगे। रिलायंस कम्युनिकेशंस ने एमटीएन से विगत मई महीने में बातचीत शुरू की थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: रिलायंस-एमटीएन समझौता रविवार तक