अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

‘कैसा रहा मास्टर स्ट्रोक’

गुजरात के मुख्यमंत्री नरंद्र मोदी को बिहार में चुनाव प्रचार करने से रोका गया। मगर दूसरा पहलू यह है कि मोदी की नजर लगातार बिहार पर ही टिकी रही। उन्होंने प्रचार में न बुलाने का बुरा माना। लुधियाना में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से हाथ मिलाकर बदला भी चुका लिया। लुधियाना की कामयाबी पर मोदी ने बिहार के अपने करीबी नेताओं से पूछा-कैसा रहा? मास्टरस्ट्रोक था न! दरअसल, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के इस प्रस्ताव पर भाजपा की राज्य इकाई भी सहमत थी कि प्रचार के लिए नरंद्र मोदी को न बुलाया जाए। इससे अल्पसंख्यक वोटरों पर बुरा असर पड़ेगा। भाजपा ने भी मोदी को बुलाने की जिद नहीं की। मोदी ने भी बुरा नहीं माना। शुरु में मुख्यमंत्री से जब नरंेद्र मोदी के बार में पूछा गया तो उनका जवाब होता था-हमार पास तो मोदी (सुशील कुमार मोदी)पहले से हैं। लेकिन एक टेलीविजन पर प्रसारित मुख्यमंत्री के इंटरव्यू के एक अंश को मोदी ने दिल पर ले लिया। वह अंश था-हम नरंद्र मोदी के साथ मंच शेयर नहीं करंगे। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की भावना की कद्र करते हुए लुधियाना के मंच पर बैठने की व्यवस्था ऐसी की गई कि नीतीश और मोदी के बीच पांच कुर्सियों की दूरी थी। कायदे से एनडीए की ऐसी रैलियों में बैठने की व्यवस्था अल्फावेटिकली होती है। इस लिहाज से नरंद्र मोदी और नीतीश की कुर्सियां अगल-बगल रहती। यह नहीं हुआ। इधर नरंद्र मोदी सधे हुए शिकारी की तरह इधर-उधर देखे बिना लक्ष्य की ओर बढ़े। बिना समय गंवाए उन्होंने अभिवादन के बहाने नीतीश हाथ मिलाया और अगले पल एकाुटता प्रदर्शित करनेवाली मुद्रा में हाथ उठा दिया। नीतीश कुछ सोच पाते इससे पहले मोदी ने अपना काम कर दिया था। इस प्रकरण पर दूसर दलों में तीखी प्रतिक्रिया हुई। मुख्यमंत्री खुद अभी तक सफाई दे रहे हैं। वैसे, नरंद्र मोदी दिल से चाहते हैं कि बिहार में एनडीए को कामयाबी मिले। यही वजह है कि मोदी ने पटना साहिब से कांग्रेस के उम्मीदवार शेखर सुमन से संबंधित एक सीडी भाजपा की राज्य इकाई को भेजी थी। सीडी में दिखाया गया था कि सुमन ने गुजरात विधानसभा के चुनाव में नरंद्र मोदी के लिए प्रचार किया था। मोदी का कहना था कि इस सीडी को दिखाने से अल्पसंख्यकों में प्रतिक्रिया होगी। मगर राज्य इकाई ने इस सीडी को दबा दिया। भाजपा का आकलन था कि अगर अल्पसंख्यकों का वोट सुमन को नहीं मिला तो वह राजद की ओर जाएगा। ऐसा होने पर भाजपा को ही नुकसान होता।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ‘कैसा रहा मास्टर स्ट्रोक’