अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब लेफ्ट को घेरने में जुटी कांग्रेस

परमाणु करार पर सरकार गिरने के भय से पूरी तरह से मुक्त हो चुकी कांग्रेस ने अब लेफ्ट की घेराबंदी शुरू कर दी है। पार्टी ने करार को राष्ट्रीय गौरव का विषय बताते हुए कहा कि किसी भी दल में यदि राष्ट्रीय चेतना है, तो वह इसका विरोध नहीं कर सकता क्योंकि देश की भावी पीढ़ी को उसे जवाब देना पड़ेगा। लेफ्ट को आड़े हाथों लेते हुए पार्टी ने यहां तक कहा कि भाजपा भी डील का खुला विरोध करने की हिम्मत नहीं जुटा पा रही। पार्टी के वरिष्ठ नेता वीरप्पा मोइली ने लेफ्ट का संबंध जोड़े बगैर दो टूक कहा कि सिर्फ चीन और पाकिस्तान नहीं चाहते कि करार हो। कांग्रेस के आक्रामक रुख से दो बातें साफ हैं, एक सरकार बचाने का पक्का इंतजाम हो चुका है। दूसर पार्टी की कोशिश यह बताने की होगी कि डील को लेकर लेफ्ट राष्ट्रहित में नहीं सोच रहा। यूएनपीए की आज हुई बैठक के नतीजों को लेकर भी पार्टी हतोत्साहित नहीं है। उधर, लेफ्ट ने समर्थन वापसी के तौर-तरीके पर विचार के लिए कल फैसला करने की बात कहीं है। इन बैठकों के बाद प्कांग्रेसोार्टी ने दो बातें दावे के साथ कहीं। एक लेफ्ट समर्थन जारी रखे या नहीं, सरकार को कोई खतरा नहीं। दूसर, डील पर अब तक मचे कोहराम से यह मुद्दा अब जनता के बीच जा चुका है और राष्ट्रीय गौरव का विषय बन चुका है। रही-सही कसर यूएनपीए ने पूरी कर दी है। यूएनपीए के डील पर राष्ट्रीय हित तलाशे जाने बात से पार्टी को महसूस हो रहा है कि इससे करार की स्वीकार्यता को लेकर एक बार नए सिर से बहस शुरू होगी। मोइली ने लेफ्ट को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि पहले उसका स्टैंड था कि डील आपरशनलाइज न हो। जो कि अभी नहीं हुई है और न हाल-फिलहाल होने जा रही। पीएम खुद यह बात कह चुके हैं कि आपरशनलाइज करने से पहले संसद में चर्चा की जाएगी। पीएम जापान क्लाइमेट चेंज पर चर्चा के लिए जा रहे हैं। वहां कई राष्ट्राध्यक्षों से औपचारिक मुलाकात हो सकती है। फिर भी लेफ्ट का स्टैंड बदल रहा है आखिर क्यों ? बकौल मोइली डील के बहाने लेफ्ट सरकार को ब्लैकमेल कर रहा है। इस बीच पार्टी ने कुछ अखबारों छपी इस बात से इनकार किया है कि सपा की तरफ से समर्थन के बदले किन्हीं मंत्रियों को हटाने की मांग की गई है।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अब लेफ्ट को घेरने में जुटी कांग्रेस