DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजभाषा की उपेक्षा कर रहा सीसीएल

सीसीएल प्रबंधन राजभाषा हिंदी की उपेक्षा कर रहा है। कोल इंडिया ने निजी सचिव पद पर प्रोमोशन के लिए योग्य कामगारों से आवेदन मांगा। इस आलोक में सचिवालय संवर्ग के तहत राजभाषा संवर्ग के लिए कामगारों ने अपने-अपने आवेदन अपने-अपने विभाग से अग्रसारित करा कर कर्मचारी स्थापना शाखा को भेजा। आवेदनों को कर्मचारी स्थापना की ओर से पूर्ण विवरण के साथ सूची बना कर अधिकारी स्थापना को भेजा गया। वहां के प्रभारी अधिकारी ने सिर्फ अंग्रेजी संवर्ग के वरीय निजी सहायकों की सूची सीएमपीडीआइ स्थित सीआइएल सेंट्रलाक्ष सेल भेजी। इसके तहत अंग्रेजी संवर्ग के 140 कामगारों को कोल इंडिया के निर्देश पर प्रशिक्षण दिया जा रहा है। भुक्तभोगी कामगारों ने इस संबंध में डीपी टीके चांद को 24 जून को ज्ञापन सौंपा है। उनका कहना है कि बार-बार उनके साथ सौतेला व्यवहार किया जा रहा है। उन्हें परीक्षा में सम्मलित होने से वंचित किया जा रहा है। इसके लिए दोषी अधिकारी को दंडित कर उन्हें परीक्षा में शामिल किये जाने की अनुशंसा पत्र सीआइएल भेजने की मांग की है।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राजभाषा की उपेक्षा कर रहा सीसीएल