अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वाम ने दिया 7 तक का अल्टीमेटम

परमाणु करार की बिसात पर मनमोहन सरकार की चतुर चाल से मात खा चुके वाम दलों ने शुक्रवार को अल्टीमेटम दिया कि सरकार 7 जुलाई तक साफ-साफ बता दे कि वह अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी में निगरानी समझौता करने जा रही है या नहीं। चारों वामपंथी दलों की बैठक के बाद संवादाताओं को संबोधित करते हुए माकपा महासचिव प्रकाश करात ने यह भी घोषणा की कि वे 14 जुलाई से परमाणु समझौते, महंगाई और सरकार की अन्य जनविरोधी नीतियों के खिलाफ राष्ट्रव्यापी आंदोलन शुरू करने जा रहे हैं।ड्ढr ड्ढr वाम दलों की आठ जुलाई को फिर बैठक होने वाली है जिसमें सरकार का जवाब आने की स्थिति में अगला कदम उठाने पर विचार किया जाएगा। करात ने कहा कि सरकार अगर करार पर आगे बढ़ने की बात कहती है तो वामदल लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव के समर्थन में मतदान करंगे। दूसरी ओर कांग्रेस ने वामदलों के अल्टीमेटम को खारिा कर दिया है। पार्टी प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि किसी भी सार्वभौम सरकार और पार्टी अल्टीमेटम से बंधी नहीं हो सकती है। वहीं संसदीय कार्य मंत्री व्यालार रवि ने कहा कि सरकार को बहुमत प्राप्त है और वह उसे लोकसभा में साबित करने को भी तैयार है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: वाम ने दिया 7 तक का अल्टीमेटम