अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ईपीएफचच ब्याज दरों पर फैचचसला टला

र्मचारी भविष्य निधि (ईपीएफ) बोर्ड ने शनिवार को ईपीएफ पर ब्याज दर तय करने को लेकर अपना फैसला टाल दिया। बोर्ड ने हालांकि ईपीएफ अधिनियम के दायरे में लाने के लिए प्रतिष्ठान में कर्मचारियों की संख्या को 20 से घटाकर 10 कर दिया है। केन्द्रीय श्रम एवं नियोजन मंत्री ऑस्कर फर्नांडीज ने बोर्ड की बैठक में कहा कि उन्हें ईपीएफ पर ब्याज दर बढ़ाने के मुद्दे पर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से बातचीत करनी होगी। गौरतलब है कि श्रमिक नेता विशेष जमा योजनाओं (एसडीएस) तथा अन्य प्रतिभूतियों पर प्रशासनिक दर के पुनरीक्षण की मांग कर रहे थे। वित्त वर्ष 2007-08 में ईपीएफ पर सालाना ब्याज दर साढ़े आठ प्रतिशत थी। देश में ईपीएफ में निवेश करने वालों की संख्या 4.20 करोड़ है। तकरीबन 80 सरकारी कर्मचारी ईपीएफ में निवेश करने को तरजीह देते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ईपीएफचच ब्याज दरों पर फैचचसला टला