अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हाइकोर्ट में मामलों के निष्पादन में तेजी

ाजों की संख्या कम रहने के बावजूद झारखंड हाइकोर्ट में मामलों का निष्पादन तेजी से किया जा रहा है। देश के जिन हाइकोर्ट में कम मामले लंबित हैं, उसमें झारखंड भी शामिल है और उसका पांचवा स्थान है। यहां मामलों के निष्पादन में और तेजी आती, लेकिन जजों के स्वीकृत पद कभी भर नहीं गये। पहले यहां 12 पद स्वीकृत थे।ड्ढr राज्य झारखंड बनने के बाद यहां मामलों का बोझ बढ़ता गया। इस कारण यह स्वीकृत पदों की संख्या बढ़ा कर 20 कर दी गयी। फिलहाल यहां नौ जज ही पदस्थापित हैं।ड्ढr झारखंड हाइकोर्ट में 40 मामले ही लंबित हैं। सबसे कम 80 मामले सिक्िकम हाइकोर्ट में लंबित हैं। उत्तरांचल में 20,हिमाचल प्रदेश में 27,60 और जम्मू कश्मीर हाइकोर्ट में 46,640 मामले लंबित हैं। इलाहाबाद हाइकोर्ट में सबसे ज्यादा 81मद्रास में 428832, मुंबई में 36ोलकाता में 283237 और पंजाब- हरियाणा हाइकोर्ट में 257816 मामले लंबित हैं।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: हाइकोर्ट में मामलों के निष्पादन में तेजी