DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

साम्प्रदायिक ताकतों को रोकने का हर प्रयास होगा : मुलायम

आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस से तालमेल के सभी विकल्प खुले रखते हुए समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने रविवार को कहा कि वह साम्प्रदायिक और जातिवादी ताकतों को केन्द्र की सत्ता में आने से रोकने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं। यादव ने कहा कि इस समय वह सम्भावित तालमेल के बारे में कुछ भी नहीं कहेंगे लेकिन साम्प्रदायिक और जातिवादी ताकतों को केन्द्र में आने से रोकने के लिए वह जो भी जरूरी होगा उसे करेंगे। जौनपुर में एक विवाह समारोह में भाग लेने आए सपा मुखिया ने कहा कि इस समय कांग्रेस से तालमेल होना या नहीं होना मुख्य मुद्दा नहीं है। इस समय साम्प्रदायिक और जातिवादी ताकतों को केन्द्र में सत्ता रोका जाना है और साथ ही देश की जनता को राजनीतिक अनिश्चितता से बचाए जाने की जरूरत है। यादव ने कहा कि परमाणु करार मसले पर मैं केन्द्र की संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार को नहीं गिरने दूंगा और देश के बड़े हित के लिए कांग्रेसनीत केन्द्र सरकार को समर्थन दूंगा। सपा अध्यक्ष ने कहा कि राष्ट्रहित से ऊपर कुछ भी नहीं है और वह देश को विकसित राष्ट्रों में से एक बनाने के लिए परमाणु करार पर संप्रग सरकार को समर्थन देंगे। उन्होंने कहा कि जब चीन और पाकिस्तान जैसे देश परमाणु करार पर हस्ताक्षर कर रहे हैं और विकास के लिए नाभिकीय ईंधन का इस्तेमाल कर रहे हैं तो फिर भारत इस क्षेत्र में पिछडा क्यों रहे। उन्होंने कहा कि उन्होंने पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम तथा अन्य विशेषज्ञों से इस मसले पर राय लेने के बाद परमाणु करार का समर्थन करने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि पहले भारत को सोवितय संघ से यूरेनियम मिल जाता था लेकिन सोवियत संघ के विघटन के कारण अब यह मिलना बन्द हो गया है। उन्होंने कहा कि अब इस करार पर दस्तखत के बिना भारत को यूरेनियम मिलना बन्द हो जाएगा जिसका बिजली उत्पादन में इस्तेमाल किया जाना है। जब उनका ध्यान इस आेर खींचा गया कि क्या सपा लोकसभा चुनाव कांग्रेस से तालमेल करके लड़ने जा रही है, यादव ने कहा कि यह मसला बाद में तय किया जा सकता है। परमाणु करार मसले पर यदि वाम दल समर्थन वापस लेते हैं तो हमारी पहली प्राथमिकता केन्द्र की संप्रग सरकार को बचाना है। संप्रग सरकार को समर्थन देने के बाद संयुक्त राष्ट्रीय प्रगतिशील गठबंधन (यूएनपीए) नेता आेम प्रकाश चौटाला द्वारा उन्हें इस गठबंधन से बाहर किए जाने के बारे में उन्होंने कहा कि उन्हें यूएनपीए से हटाया नहीं गया है बल्कि चौटाला खुद इस गठबंधन से अलग हो गए हैं। उत्तर प्रदेश की मायावती सरकार पर हमला करते हुए सपा अध्यक्ष ने कहा कि बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सरकार द्वारा सपा कार्यकर्ताआें और नेताआें को निशाना बनाया जा रहा है। उनपर फर्जी मुकदमे कायम कराए जा रहे हैं। यह सब उन्हें लोकसभा चुनाव के पहले हतोत्साहित करने के लिए किया जा रहा है। यादव पूर्व विधायक सावित्री देवी के पुत्र के विवाह में भाग लेने के लिए रविवार को जौनपुर आए थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ‘साम्प्रदायिक ताकतों को रोकने का हर प्रयास होगा’