अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आरा जेल से दो बंदी फरार

आरा जेल से बीती रात दो बंदी रहस्यमय ढंग से फरार हो गए। इस मामले में लापरवाही बरतने पर जहां तीन पुलिसकर्मियों को जेल अधीक्षक ने निलंबित कर दिया है वहीं जेलर से जवाब तलब किया है। बंदियों के फरार होने की घटना की जानकारी रविवार की सुबह जेलकर्मियों को तब हुई जब वार्ड के बंदियों की गिनती की गई। दो बंदियों को गायब देख जेलकर्मियों के होश फाख्ता हो गये।ड्ढr ड्ढr जेल अधीक्षक घनश्याम राम ने तत्काल रहस्यमय ढंग से गायब बंदियों को लेकर छानबीन शुरू कर दी। पुलिस कप्तान सुनील कुमार ने भी जेल पहुंचकर बंदियों के फरार होने की घटना की जांच-पड़ताल की। पुलिस कप्तान ने कहा कि शुरूआती जांच पड़ताल के दौरान जेलकर्मियों की भी घटना के पीछे हाथ होने की संभावना है। उन्होंने कहा कि जेल अधीक्षक से जांच कर रिपोर्ट सौंपने को कहा गया है। जेल सूत्रों ने बताया कि शनिवार की शाम को वार्ड संख्या तीन में 217 बंदियों को गिनती कर जेलकर्मियों ने बंद कर दिया था। रविवार की सुबह बंदियों की जब गिनती की गई तो दो गायब मिले। जेलकर्मियों के अनुसार नगर थाने के वलीगंज निवासी मोहम्मद इसराइफल (पिता-महमूद आलम) व तरी मुहल्ला के सहाब खां उर्फ कश्मीरी (पिता-मोहम्मद सोलेह) रहस्यमय ढंग से गायब मिले। जांच-पड़ताल के दौरान वार्ड संख्या तीन की खिड़की के पास कुछ ईंट उखड़े हुए मिले लेकिन उससे भागने की संभावना तनिक भी नहीं लगी।ड्ढr पुलिस कप्तान ने भी छानबीन के बाद पाया कि दोनों बंदी उक्त जगह से फरार नहीं हुए हैं। जेल की ऊंची दीवारों पर भी कोई निशान नहीं पाया गया। देर शाम तक बंदियों के भागने के तरीके का पता लगाने में जेल प्रशासन जुटा हुआ था। डय़ूटी पर तैनात जेलकर्मियों से भी पूछताछ की जा रही थी। दोनों फरार बंदी मामूली आरोप में जेल में बंद थे। इधर जेल अधीक्षक ने उच्च कक्षपाल राजकिशोर शर्मा व कक्षपाल रामनारायण पंडित और नंदलाल सिंह को निलंबित कर दिया है। तीनों जेलकर्मी बीती रात डय़ूटी पर तैनात थे। पुलिसकर्मियों पर कोर्ट में मुकदमाड्ढr बक्सर (हि.प्र.)। नावानगर थाना क्षेत्र के कुकुरभूंका गांव में पुलिस व ग्रामीणों के बीच भिड़ंत का मामला तूल पकड़ते जा रहा है। पुलिस द्वारा नामजद किए गए ग्रामीणों की तलाश में छापेमारी की गई किन्तु अभियुक्त फरार मिले। इधर जख्मी मुन्ना साह द्वारा नावानगर थानाध्यक्ष व अन्य पुलिसकर्मियों के खिलाफ कोर्ट में परिवाद दायर किया गया। परिवाद में पुलिस पर मासूम पूजा व अन्य ग्रामीणों की बेरहमी पूर्वक पिटाई का आरोप लगाया गया है। मुन्ना साह ने बताया कि पुलिस द्वारा मानवता की हदें पार कर बर्बरता का जो परिचय दिया गया वह क्षम्य नहीं है। पीड़ित परिवार के लोगों की आश अब न्यायालय पर है। लोगों ने पिटाई करने वाले पुलिसकर्मियों को सजा देने की मांग की है। हालांकि पुलिस तथा कुछ ग्रामीणों का कहना है कि पूजा रोड़ेबाजी के दौरान बीच में आ जाने के कारण जख्मी हो गई। फिलहाल पूजा को इलाज के बाद घर भेज दिया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आरा जेल से दो बंदी फरार