अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भाजपा: ‘जख्मी दिल’ वाले नेताओं के ‘जख्मों’ पर मरहम

भाजपा आलाकमान ने बिहार के ‘जख्मी दिल’ वाले नेताओं के ‘जख्मों’ पर मरहम लगाना शुरू कर दिया है। ऐसे कुछ नेताओं की नाराजगी है कि अब जबकि प्रदेश नेतृत्व का विवाद लगभग थम गया है फिर भी ‘दूसर खेमे’ द्वारा उनके खिलाफ बदले की कार्रवाई जारी है। इसके लिए स्थानीय संगठनों की भी मदद ली जा रही है। पिछले हफ्ते कार्यसमिति की बैठक के सिलसिले में पटना आए प्रदेश प्रभारी कलराज मिश्र के सामने यह मुद्दा उठा। मंत्रियों की बैठक में ‘जख्मी दिल’ वाले एक नेता ने शिकायत की कि उनके क्षेत्र में स्थानीय संगठनों द्वारा लगातार आयोजित ‘समारोहों’ के बहाने विरोधियों द्वारा उन पर निशाना साधा जा रहा है। ऐसी शिकायतें कुछ और प्रमुख नेताओं-विधायकों की भी थी और उन्होंने मिसाल भी दी। बताया जाता है कि श्री मिश्र ने इस शिकायत को गंभीरता से लेते हुए आगे ऐसे ‘समारोहों’ की पुनरावृत्ति नहीं होने देने की हिदायत दी।ड्ढr ड्ढr उन्होंने इस बाबत सख्त निर्देश जारी किया कि भविष्य में ऐसे किसी भी कार्यक्रम में शामिल होने के लिए भाजपा नेताओं को पहले वहां के पार्टी विधायक और जिलाध्यक्ष से इजाजत लेनी होगी। इसमें भाग लेने वाले मंत्रियों को भी स्थानीय विधायक और जिला इकाई के प्रमुख से बात करनी होगी। उनकी सहमति के बाद ही ऐसे किसी भी आयोजन में वे शिरकत कर सकते हैं। जिस दिन यह शिकायत की गई उस दिन भी ‘जख्मी दिल’ वाले नेताजी के क्षेत्र में इस तरह का कार्यक्रम रखा गया था जिसमें एक ‘मंत्री महोदय’ भी जाने वाले थे। श्री मिश्र के इस फरमान के बाद उनको समारोह में जाने का प्रोग्राम स्थगित करना पड़ा। इसे केन्द्रीय नेतृत्व द्वारा प्रदेश इकाई में गुटबाजी की नकेल कसने की कवायद के रूप में भी देखा जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भाजपा: ‘जख्मी दिल’ वाले नेताओं के ‘जख्मों’ पर मरहम