DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फिर लौटा सुरूर फिल्मों के बीमे का

बॉलीवुड में इन दिनों फिल्म निर्माताओं द्वारा अपनी फिल्मों का बीमा करवाने का चलन बढ़ गया है। हाल ही में प्रदíशत हुई नई फिल्म ‘जाने तू या जाने ना’ और हैरी बावेजा की ‘लवस्टोरी 2050’ जसी दोनों बड़ी फिल्मों का भी बीमा कराया गया है। जहां बावेजा ने अपनी फिल्म का बीमा युनाइटेड इंडिया इंश्योरंस से कराया है, वहीं आमिर खान की फिल्म का बीमा बजाज एलाइंज जनरल इंश्योरंस ने किया है। गौरतलब है कि बीमा कंपनियों ने फिल्मों की पर्फामेंस को अपनी नीति से दूर रखते हुए सिर्फ निर्माण से जुड़े शूटिंग के सामानों और फिल्म के सेट आदि की क्षति को ही अपनी बीमा योजना के अंतर्गत रखा है। लेकिन, चौंकाने वाली बात यह है कि सभी फिल्मों को बीमा सुविधा भी प्रदान नहीं होती है।ड्ढr अनुमानत: दस फिल्मों में से केवल एक ही फिल्म को बीमा योजना की सुविधा प्राप्त हो पाती है। दरअसल, सारी बातें फिल्मों के प्रारूप पर निर्भर होती हैं। अगर फिल्म की पटकथा बीमा योजना के अंतर्गत आती है, तो बीमा कंपनी प्रोडय़ूसर को मुख्य कलाकार की मृत्यु से हुई हानि, आग या अन्य किसी कारणवश सेट पर हुई हानि, कपड़ों, मशीनों आदि अन्य उपकरणों की हुई हानि की भरपाई के साथ-साथ चोरी हो जाने पर भी क्षतिपूíत के लिए देयी होती है। इन खूबियों के कारण ही बीमा कंपनियां इन दिनों बॉलीवुड में करोड़ों बजट में फिल्में बना रहे निर्माता-निर्देशकों का ध्यान अपनी ओर खींचने में कामयाब हो रही हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: फिर लौटा सुरूर फिल्मों के बीमे का