DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिजली बोर्ड: उपभोक्ताओं का रिकार्ड अप-टू-डेट रखना होगा

बिहार बिजली बोर्ड को अब अपने तमाम उपभोक्ताओं का रिकार्ड अप टू डेट रखना होगा। यही नहीं उसे अपने तमाम ग्राहकों को पूर्ण गुणवत्ता वाली सेवा मुहैया करानी होगी और बिजली आपूर्ति में बाधा के मिनट-मिनट और एक-एक डिस्ट्रूीब्यूशन ट्रांसफर्मर का लोड सहित हिसाब रखना होगा।ड्ढr ड्ढr उपभोक्ताओं की शिकायत पर क्या कार्रवाई हुई, इसकी भी जानकारी होनी चाहिए। बिहार इलेक्िट्रसिटी रगुलेटिरी कमीशन (बीईआरसी) ने विद्युत उपभोक्ताओं के तमाम रिकार्ड रखने, उसे मेन्टेन करने और गुणवत्ता आधारित सेवा प्रदान करने को अनिवार्य बना दिया है। अगर ऐसा नहीं किया गया तो बोर्ड के खिलाफ कार्रवाई हो सकती है और उसे दंडशुल्क देना पड़ सकता है। इस अधिसूचना की अनिवार्यता इस वर्ष 22 अप्रैल से ही लागू मानी जाएगी। हालांकि कमीशन ने इसकी अधिसूचना गत वर्ष 22 जनवरी को ही निकाली थी और तीन माह के अंदर इसे लागू करने की सीमा तय कर दी थी, लेकिन तीन माह बीतने के बाद बिजली बोर्ड ने एक वर्ष का और समय मांग लिया था। रेगुलेरिटी कमीशन के अनुसार बोर्ड को अपने तमाम उपभोक्ताओं के रिकार्ड रखने के साथ-साथ दी जाने वाली सेवाओं और गुणवत्ता का अद्यतन रिकार्ड रखना होगा। किसी स्तर पर कोई गड़बड़ी हुई तो कार्रवाई तय है। रिकार्ड से संबंधित 11 कोटियों की जानकारी रखनी होगी। इसमें नए कनेक्शन के लिए आवेदन देने वाले उपभोक्ताओं का रिकार्ड, लोड, अस्थायी सप्लाई, लोड में कमी या नाम में परिवर्तन के लिए अलग से रजिस्टर रखना होगा।ड्ढr ड्ढr इसके अलावा सर्विस कनेक्शन रजिस्टर, सेक्यूरिटी डिपॉजिट रजिस्टर, कनेक्शन चार्ज संग्रह रजिस्टर, फ्यूज कॉल रजिस्टर, विद्युत आपूर्ति में बाधा का रजिस्टर, संबंध विच्छेद व पुर्नसबंधन सर्विस रजिस्टर, मीटर बदलने का रजिस्टर, डिस्ट्रीब्यूशन ट्रांसफर्मर का लोड सहित रजिस्टर, एसटिमेट रजिस्टर और कार्यादेश रजिस्टर में तमाम रिकार्ड अप टू डेट रखना होगा। इनमें संबंधित सारी जानकारी रहनी चाहिए जिससे यह प्रमाणित हो सके कि बोर्ड ने इन सभी मुद्दे पर क्या-क्या कार्रवाइयां की हैं।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बिजली बोर्ड: उपभोक्ताओं का रिकार्ड अप-टू-डेट रखना होगा