अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छात्रों ने ट्रन व वाहन रोके

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकत्त्राओं एवं अनशनकारियों के समर्थकों ने 5610 डाउन अवध असम एक्सप्रेस को कोशी कॉलेज के समीप रोक दिया तथा एनएच 31 पर दर्जनों ट्रकों को रोका और हवा निकाल दी जिससे घंटों जाम लग गया। इधर कोसी कॉलेज में पीजी की पढाई शुरू कराने समेत सात सूत्री मांगों को लेकर चल रहा अभाविप के नेता बाबू लाल शौर्य और विक्की आर्य का अनशन आठवें दिन समाप्त हो गया।ड्ढr ड्ढr 7 जुलाई को निश्चित कालीन कोसी कॉलेज जेल रोड जाम के दौरान साईस टेक्नोलॉजी मंत्री की गाड़ी पर हमले के बाद कुछ छात्र नेताओं पर दर्ज हुई प्राथमिकी से नाराज छात्रों ने मंगलवार को खगड़िया बंद का ऐलान किया था लेकिन दस बजते ही लड़कों का झुंड एनएच 31 स्थित बलुआही बस पड़ाव की ओर कूच कर गया। छात्रों ने कई ट्रकों की हवा निकाल दी तथा ड्राइवरों को गाड़ी तिरछी कर खड़ा करने को कहा। गुवाहाटी से इंदौर जा रहे गुरदीप सिंह और सिंगारा सिंह, मुंबई जा रहे हबीब, सुखदेव सिंह जसे कई लोग व ड्राईवर आहत दिखे। उन्होंने कहा कि उनका नुकसान कराकर क्या सरकार आंदोलनकारियों की मांगे मानेगी? जाम में जल संसाधन मंत्री विजेन्द्र यादव भी फंसे जिन्हें डीएसपी तथा एसडीओ ने जाम से निकाला। एनएच पर जाम लगा देने के बाद आक्रोशित भीड़ का निशाना रल बनी। कई छात्र पटरी पर दौड़ने लगे कुछ तो सिगनल के खंभे पर चढ़कर हरा सिगनल को ढक किया तथा लाल झंडा लगा दिया। 5610 डाउन अवध असम एक्सप्रेस के ड्राईवर रामनरश प्रसाद ने बताया कि पटरी पर लोगों के हुाूम को दौड़ता देख उन्होंने 10.50 बजे कॉलेज की सीमा के बीच ट्रेन रोक दी। लगभग दो घंटे तक ट्रेनों का परिचालन ठप रहा। बाद में एसपी डा. कमल किशोर सिंह ने खुद कमान संभाल ली। उन्होंने बूढ़ी गंडक सड़क पुल से बस स्टैंण्ड के बीच सड़क जाम समाप्त कराया ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: छात्रों ने ट्रन व वाहन रोके