DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पुलिस का कारनामाचार व सात साल के बच्चे बने अभियुक्त

आम तौर पर प्राथमिकी दर्ज करने से कतराने वाली पुलिस ने हत्या के एक मामले में चार व सात वर्ष के बच्चे को भी अभियुक्त बना दिया है। इन दोनों नाबालिग बच्चों के पिता उसी मामले में जेल में हैं। राजनीतिक दलों के नेताओं ने मंगलवार को डीआईाी के यहां दोनों नाबालिग बच्चे को हाजिर करा कर पुलिस महकमा को कठघर में खड़ा कर दिया। डीआईाी अरविन्द पांडेय ने बुधवार को इसकी समीक्षा करने के लिए अनुसंधानक को तलब किया है। डीआईाी ने कहा कि दोषियों पर कार्रवाई की जायेगी। हत्या में अभियुक्त बनाये गए दोनों बच्चों को देखकर डीआईाी भी हैरान रह गए। नाबालिग बच्चों को डीआईाी के यहां लेकर पहुंचे लोजपा नेता मो. लालबाबू, पूर्व मुखिया अब्दुल काजी व अशरफ अली ने निष्पक्ष जांच की मांग की। बताया गया है कि 24 मई को हथौड़ी थाना के खानपुर निवासी रहीमा खातून का अपने पति मोतीउर रहमान से झंझट हो रहा था जिसमें बीच-बचाव करने गए देवर क्षहार व परिानों में मारपीट हो गयी। शिक्षकों की बहाली में गड़बड़ीजिला शिक्षा अधिकारी व एसडीईओ निलंबितड्ढr पटना सासाराम (हि.ब्यू.ए.प्र.)। पहले चरण में शिक्षकों की बहाली में हुई गड़बड़ी के मामले में मानव संसाधन विकास विभाग ने जिलों और अनुमंडलों में तैनात शिक्षा अधिकारियों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। रोहतास जिले में पिछली बार माध्यमिक स्तर के शिक्षकों की बहाली में की गई अनियमितता के मामले में विभाग ने वहां के जिला शिक्षा अधिकारी (डीईओ) कृपानारायण राय और बिक्रमगंज के अनुमंडल शिक्षा पदाधिकारी (एसडीईओ) संजय कुमार सिंह को निलम्बित कर दिया है। प्रधान शिक्षा सचिव अंजनी कुमार सिंह ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि इनके खिलाफ मिली शिकायतों को मुख्यालय से अधिकारियों की टीम भेज कर जांच कराई गई थी। मामला सही पाए जाने पर इन दोनों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। उन्होंने बताया कि डीईओ द्वारा जिला पर्षद शिक्षक नियोजन व एसडीईओ द्वारा क्षेत्र के चार नगर निकाय शिक्षक नियोजन में भारी अनियमितता बरतने का मामला चल रहा था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पुलिस का कारनामाचार व सात साल के बच्चे बने अभियुक्त