DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मछुआरों का होगा बीमा

राज्य सरकार ने मछुआरों के लिए अपना खजाना खोल दिया है। सरकार उनका बीमा करायेगी। दुर्घटना में मरने पर उनके परिानों को 75 हाार रुपये मिलेंगे जबकि बीमारी से मरने पर 30 हाार। इसके अलावे बीमा होते ही मछुआर के बच्चों को नौवीं कक्षा तक की पढ़ाई के लिए पाठय़ पुस्तकें भी मुफ्त में मिलने लगेंगी। एक माह के अंदर बीस हाार मछुआरों का बीमा कराने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। सरकार ने इसके लिए एलआईसी के पास प्रीमियम के रूप में दस लाख रुपये जमा भी कर दिया है।ड्ढr ड्ढr मछुआरों को सिर्फ पचास रुपये एक वर्ष में देने होंगे। प्रीमियम की शेष राशि केन्द्र और राज्य सरकारें देंगी। शर्त यही है कि मछुआर का नाम बीपीएल सूची में दर्ज हो। मत्स्य निदेशक आर एन चौधरी ने बताया कि दस जुलाई को श्री कृष्ण मेमोरियल हॉल में मुख्यमंत्री के हाथों कुछ मछुआरों को पॉलिसी दी जायेगी और उसी दिन ‘जनश्री बीमा’ नामक इस योजना की घोषणा की जायेगी। इस योजना के तहत बीमित मछुआरा दुर्घटना में अगर विकलांग हो जायेगा तो उसे साढ़े सैंतीस हाार रुपये मिलेंगे। श्री चौधरी ने बताया कि दस जुलाई को विशेष मछुआरा दिवस पर इस कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में उस दिन राज्यभर से मछुआरों को बुलाया गया है। उसी दिन देसी मांगुर मछली को राजकीय मछली घोषित किया जायेगा। सरकार मछुआरों के लिए कई अन्य योजनाओं की घोषणा भी उस दिन करगी। उन्होंने कहा कि दस जुलाई का दिन मछली पालन करने वालों के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है। 1में उसी तिथि को दो भारतीय वैज्ञानिकों ने देसी मछलियों की प्रजाति को बचाने के लिए प्रेरित प्रजनन विधि की शुरुआतड्ढr की थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मछुआरों का होगा बीमा