DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सबने कहा-देखते हैं सर

डीाीपी ने कहा आईाी से, आईाी ने डीआईाी से, डीआईाी ने एसपी से और एसपी ने थाना प्रभारी को फोन खड़काया। सबने अपने ऊपर वाले से कहा-देखते हैं सर। और पीड़ित ऊपर से नीचे की इस कवायद को देखता रहा। मुख्यमंत्री के जनता दरबार में पुलिस के मामले को लेकर आने वाले कई लोगों की यही कथा है। किसी का पति बिना कारण जेल में है तो किसी का बेटा। किसी को अपराधी धमका रहा है तो किसी को पुलिस परशान कर रही है। किसी की जमीन पर दबंगों का कब्जा है तो किसी के लड़के का अपहरण हो गया है।ड्ढr ड्ढr जितने लोग उतनी शिकायतें। 7 जुलाई को जनता दरबार में कोई दसवीं बार आया था तो कोई 11 वीं बार। सोनपुर की सावित्री देवी छठवीं बार जनता दरबार पहुंची थी। उनके लड़के का नौ महीने पहले अपहरण हो गया था। इलाके की पुलिस के यहां दौड़ते-दौड़ते हारी तो मुख्यमंत्री के जनता दरबार में पहुंची। मुख्यमंत्री ने तत्काल कार्रवाई का आदेश दिया। उनका आदेश होते ही अधिकारियों ने भी तड़ातड़ फोन खड़का डाले। लेकिन कुछ हुआ नहीं। छठवीं बार आई तो आईाी (प्रशासन) ने फिर फोन किया। फिर मामले को देख लिए जाने का आश्वासन। सावित्री देवी अब आत्महत्या की धमकी दे रही हैं।ड्ढr ड्ढr लखीसराय जिले के नदियामा गांव के मुकेश कुमार अपने चाचा की हत्या का मामला लेकर10 वीं बार जनता दरबार में आए। हत्या की प्राथमिकी नामजद है लेकिन गिरफ्तारी नहीं हो रही है। हर बार कार्रवाई जल्दी होने का आश्वासन मिल जा रहा है। घोसी के रामविनय शर्मा के घर पर दबंगों ने कब्जा कर लिया है। वे 11वीं बार जनता दरबार में आए थे। इस बार फूट-फूट कर रोए। उनके साथ आए लोगों को अब उम्मीद नहीं है कि अधिकारियों से न्याय मिलेगा लेकिन मुख्यमंत्री की बात पर भरोसा है- नीतीश बाबू जरूर कुछ करथिन।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सबने कहा-देखते हैं सर