अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

औद्योगिक रफ्तार मंद

महंगाई और ब्याज दरों में बढ़ोत्तरी का असर देश की अर्थव्यवस्था पर स्पष्ट रूप से दिखाई पड़ने लगा है। इस वर्ष मई माह के दौरान औद्योगिक उत्पादन की विकास दर पिछले वर्ष की इसी अवधि के 10.6 प्रतिशत की तुलना में तीव्र गिरावट के बाद मात्र 3.8 प्रतिशत रह गई। इसी सप्ताह जारी छह बुनियादी सुविधा क्षेत्र के आंकड़े भी निराशाजनक रहे थे। औद्योगिक उत्पादन में करीब 27 प्रतिशत का योगदान रखने वाले छह बुनियादी सुविधा क्षेत्र के उद्योग की विकास मात्र 3.5 प्रतिशत रही थी। सांख्यिकी और कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय की तरफ से शुक्रवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक बिजली, पूंजीगत सामान और गैर टिकाऊ उपभोक्ता उद्योग के निराशाजनक प्रदर्शन का असर औद्योगिक उत्पादन पर पड़ा। हालांकि इस दौरान उपभोक्ता टिकाऊ और खनन क्षेत्र का प्रदर्शन बेहतर रहा। इस वर्ष मई माह के दौरान कारखाना क्षेत्र का उत्पादन 3.प्रतिशत की रफ्तार से बढ़ा, जबकि अप्रैल के दौरान इसकी प्रारंभिक गति साढ़े सात प्रतिशत थी। आंकड़ों के मुताबिक मई 08 के दौरान पूंजीगत वस्तुओं के उद्योगों की विकास रफ्तार जो पिछले वर्ष 22.4 प्रतिशत थी, घटकर मात्र ढाई प्रतिशत रह गई। गैर टिकाऊ उपभोक्ता उद्योग का प्रदर्शन भी अच्छा नहीं रहा और इसकी वृद्धि 12.1 प्रतिशत से घटकर 8.1 प्रतिशत रह गई। उपभोक्ता सामान उद्योग 7.2 प्रतिशत की वृद्धि हासिल कर पाया, जबकि पिछले वर्ष यह 8.7 प्रतिशत थी। इस वर्ष मई माह के दौरान उपभोक्ता टिकाऊ उद्योग का प्रदर्शन शानदार रहा। पिछले वर्ष के 0.7 प्रतिशत की नकारात्मक गिरावट की तुलना में इस वर्ष यह 4.4 प्रतिशत की रफ्तार से बढ़ा। खनन क्षेत्र की रफ्तार 3.8 प्रतिशत के मुकाबले 5.2 प्रतिशत रही।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: औद्योगिक रफ्तार मंद