अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कृष्णा ही है हत्यारा नोयडा।

आरुषि-हेमराज हत्याकांड में सीबीआइ ने डॉ. राजेश तलवार को क्लीन चिट देते हुए कहा है कि उनके खिलाफ कोई सबूत नहीं हैं। आरुषि के पिता डॉ. तलवार को पांच लाख निजी मुचलके पर जमानत भी मिल गयी। हालााकि कागजात नहीं पहुंचने से डॉ. तलवार शनिवार सुबह जेल से बाहर आ पायेंगे।ड्ढr शुक्रवार को सीबीआइ ने दावा किया कि नौकरों ने आरुषि के साथ ‘जबरस्ती’ करने की कोशिश की और उसकी हत्या कर दी। बाद में हेमराज को भी मार दिया। एजेंसी ने तीसर आरोपित विजय मंडल को भी गिरफ्तार कर लिया है, जो तलवार के पड़ोसी का नौकर है। सीबीआइ के दावे के अनुसार कृष्णा ने आरुषि की हत्या बदले की भावना से की थी। सीबीआइ के संयुक्त निदेशक अरुण कुमार ने बताया कि 12 बजे हेमराज ने कृष्णा को फोन कर बुलाया। कृष्णा, राजकुमार व मंडल के साथ आया। चारों ने शराब पी। शराब के झोंक में कृष्णा व राजकुमार बाथरूम के रास्ते आरुषि के कमर में दाखिल हो गये। पीछे-पीछे विजय व हेमराज गये। विजय व राजकुमार ने आरुषि को जसे छुआ वह जाग गयी, उन्होंने तकिये से उसका मुंह दबा दिया। आरुषि से जबरदस्ती करने की भी कोशिश की गयी। उसके विरोध पर सभी इतना घबरा गये कि किसी ने उसकी हत्या कर दी। हेमराज बेहद डर गया, उसने कहा कि वह तलवार परिवार को बता देगा। यह सुन तीनों उसे समझा-बुझा कर छत पर ले गये। हेमराज नहीं माना तो उसकी भी हत्या कर दी गयी। अरुण कुमार ने दावा किया कि हत्या जिस हथियार से की गयी उसे जल्द बरामद कर लिया जायेगा। ब्यूरो

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कृष्णा ही है हत्यारा नोयडा।