अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

साजिश है सीबीआई का हलफनामा: माया

उत्तर प्रदश की मुख्यमंत्री मायावती न आय स अधिक सम्पति के मामल मं सीबीआई की आर स लगाए गए आरापां पर अपना बचाव करते हुए कहा कि कि कन्द्र की संप्रग सरकार सहित भाजपा और अन्य सभी शक्तियां बसपा क खिलाफ हैं। उन्होंने कहा कि वर्ष 2004 में आईओ ने जो रिपोर्ट दी थी उसे क्यों दबा दिया गया? उन्हांन कहा कि सभी शक्तियां राजनीतिक साजिश क तहत बसपा स बदला ल रही हैं और सीबीआई का हालिया हलफनामा इसी का परिणाम है।ड्ढr ड्ढr मायावाती न साफ तौर पर कहा कि सपा कांग्रेस के साथ मिल कर सीबीआई डायरक्टर को बदलवाना चाहती है। उन्होंने कहा कि यह पहला मौका नहीं है जब कन्द्र सरकार अन्य राजनीतिक पार्टियां क साथ मिलकर सियासी खल खेल रही है। बल्कि कई मौकां पर सभी शक्तियां एकजुट हाकर बसपा सरकार पर निशाना साधती रही हैं। उन्हांन कहा कि इस तरह की साजिश का मकसद बसपा का मानवतावादी, समाजवादी व बहुजन सुखाय उद्दश्यां का पूरा करन स राकना है। मायवती न आराप लगाया कि एसी साजिशां का रच कर राजनीतिक पार्टियां संविधान की मर्यादा का उल्लंघन कर रही हैं। उत्तर प्रदश की मुख्यमंत्री न दा टूक शब्दां मं कहा कि जब भी चुनाव का समय नजदीक आता है कन्द्र की सरकार अन्य राजनीति दलां क साथ मिलकर बसपा विराधी मुहिम मं जुट जाती है ताकि मरी छवि का धूमिल कर मुझ राजनीतिक नुकसान पहुंचाया जा सक। उन्हांन कहा कि लकिन बसपा विराधी शक्तियां का अब समझ लना चाहिए कि जनता सच जानती है और उस पता है कि इस तरह की मुहिम क्यां चलाई जा रही है।ड्ढr ड्ढr मायावती ने सीबीआई क हलफनाम का राजनीतिक साजिश करार दत हुए कहा कि जब आय स अधिक संपत्ति मामल मं 28 जुलाई का सुनवाई की जानी थी, ता उसस पहल सीबीआई न हलफनाम का सार्वजनिक क्यां किया। उन्हांन पूछा कि एसा करक सीबीआई आखिर क्या साबित करना चाहती है, जबकि हलफनामा अभी भी मुझ नहीं दिखाया गया है। उन्हांन आराप लगाया कि उनकी छवि का सीबीआई क इस्तमाल स मीडिया क जरिए धूमिल करन की काशिश की जा रही है। हालांकि, उन्हांन स्पष्ट किया कि इसमं मीडिया का दाष नहीं है। उन्हांन कहा कि सरकार चुनाव स पहल सीबीआई का मरे खिलाफ इस्तमाल कर रही है। उल्लखनीय है कि सीबीआई न मायावती पर आय स अधिक संपत्ति रखन का आराप लगाया है। माया के बचाव में भाजपा-वाम उतरड्ढr नई दिल्ली (एजेंसी)। भाजपा व वामदलों ने भी मायावती मामले में सीबीआई हलफनाम पर प्रतिक्रिया व्यक्त करत हुए कहा है कि इस संदर्भ मं सरकार का रवैया गलत है। वैंकया नायडु न सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि सरकार विराधियां का निशाना बना रही है। इधर, लफ्ट नता सीताराम यचुरी न संप्रग सरकार क इस रवैय का पक्षपातपूर्ण बतात हुए कहा कि राजनीति मं विराध आम बात है। लकिन सरकार का ध्यान रखना चाहिए कि विराध राजनीतिक स्तर पर ही हा। निजी स्तर पर विराध की राजनीति सर्वथा अनुचित है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: साजिश है सीबीआई का हलफनामा: माया