DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बैंक कर्मियों ने निकाला जुलूस

ाुलाई 1ो किए गए बैंक राष्ट्रीयकरण के पीछे जो उद्देश्य था उसका खुला उल्लंघन हो रहा है। उन्हें कुचला जा रहा है। वर्ष 1े बाद सभी सरकारं इस काम को कर रही हैं। मौजूदा केन्द्र सरकार इस ओर बढ़कर शिरकत कर रही है। उक्त बातें बैंक इम्प्लाक्ष फेडरशन ऑफ इंडिया के महासचिव प्रदीप विश्वास ने शनिवार को इंडियन बैंक इम्प्लाक्ष फेडरशन के वें अखिल भारतीय सम्मेलन के खुले सत्र में कहीं। उइसके पूर्व 500 से अधिक प्रतिनिधि, पर्यवेक्षक एवं बैंक कर्मचारियों ने जुलूस निकाला। सत्र का उद्घाटन लखनऊ विश्वविद्यालय के अर्थशास्त्र विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. मो. मुजम्मिल ने किया। इस मौके पर उन्होंने मजदूर वर्ग खासकर बैंक कर्मचारियों के सामने राष्ट्रीय चुनौतियों को रखा। सत्र को महासचिव बी. प्रसाद, मंजूल कुमार दास, अरुण कुमार मिश्रा एवं ए.के. मल्लिक सहित कई लोगों ने संबोधित किया।ड्ढr ड्ढr धोखाधड़ी का मुकदमाड्ढr पटना (का.सं.)। कंकड़बाग के पीसी कॉलोनी निवासी व नेत्र चिकित्सक डा. अर्जुन कुमार सिंह पर उनके भांजे ने गांधी मैदान थाना में धोखाधड़ी व जालसाजी की प्राथमिकी दर्ज करायी है। इधर आरोपित चिकित्सक ने बताया कि उनके भांजे ने दो माह पूर्व उनसे रंगदारी की मांग करते हुए धमकी दी थी तथा वह उन्हें बराबर ब्लैकमेल करने की कोशिश कर रहा था। तब उन्होंने उसके खिलाफ कंकड़बाग थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी थी। उन्होंने कहा कि पुलिस की जांच में सारा मामला स्पष्ट हो जाएगा। सूत्रों के अनुसार प्राथमिकी दर्ज कराने वाले संचीत कुमार ने आरोप लगाया है कि चिकित्सक जो रिश्ते में उसके मामा हैं ने बिना उसकी जानकारी के उसके नाम पर पंजाब नेशनल बैंक की एक्ाीविशन रोड शाखा में खाता खुलवा लिया, जिसके पहचानकर्ता वह खुद बन गए। बाद में इसी खाते के सहार उन्होंने मगध स्टाक एक्सचेंज में डेविट खाता खुलवाया। सभी जगह उसके फर्ाी हस्ताक्षर किए गए, जबकि इन खातों के बार में उसे कोई जानकारी नहीं है। इस मामले के संदर्भ में जब संबंधित बैंक से बात की गई तो सूत्रों ने बताया कि संचित कुमार सिंह के नाम से जो खाता है वह दस्तावेजों के आधार पर सही है। अधिकारी ने बताया कि बीते 11 अप्रैल को खाताधारी संचित कुमार स्वंय बैंक आकर 11 हाार 500 रुपए निकाले। इसके दूसर दिन उन्होंने जक्कनपुर थाने में अपना पासबुक व चेकबुक खो जाने का सनहा दर्ज कराया और उसकी एक प्रति बैंक को भी दी। इस बाबत मामले के अनुसंधानकर्ता दारोगा रणजीत कुमार ने बताया कि पुलिस ने सार मामले की गहराई से छानबीन कर रही है। उन्होंने कहा कि अगर जरुरत पडं़ी तो इस मामले में राइटिंग एक्सपर्ट की भी मदद ली जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बैंक कर्मियों ने निकाला जुलूस