अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वैश्य कभी हारना नहीं जानता:संघी

अखिल भारतीय वैश्य महासम्मेलन के राष्ट्रीय अध्यक्ष गिरीश संघी ने कहा कि अपनी एकता के बल पर वे संगठन को इतना मजबूत बना देंगे कि कोई भी राानीतिक दल चुनाव में वैश्यों की उपेक्षा नहीं कर सकेगा। हर दल चुनाव जीतने के लिए अपना उम्मीदवार देता है और वैश्य कभी हारना नहीं जानता। कारण यह है कि सबके दुख का साथी वैश्य होते हैं। देश की उन्नति, समाज की मजबूती और वैश्यों की एकता हमारा लक्ष्य है और गरीबी मिटाओ हमारा एकमात्र नारा।ड्ढr ड्ढr श्री संघी संगठन के राज्य सलाहकार परिषद की बैठक के बाद प्रेस को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि वैश्य महासम्मेलन 26 प्रदेशों में 25 करोड़ वैश्यों को एकाुट करने में जुटा है। अब शिक्षा के क्षेत्र में भी समाज के बच्चे बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं। अभी सामने कई चुनौतियां हैं जिनका सामना करने के लिए हम सामाजिक चेतना से संगठन को लैस कर रहे हैं। एक सवाल पर उन्होंने कहा कि अभी अपना अलग राजनीतिक दल बनाने का कोई विचार नहीं है। लेकिन हम राजनीति से कतराते भी नहीं हैं।ड्ढr राजनीति की गंदगी को दूर करना हमारा लक्ष्य है। बिहार में 80 से 0 विधानसभा क्षेत्र वैश्य बहुल हैं। जो राजनीतिक दल यहां हमार प्रतिनिधित्व को स्वीकारगा हम उन्हें भरपूर मदद करंगे। एकता का लाभ हमें मिला है और राज्य के मंत्रिमंडल विस्तार में हमें जगह मिली। लेकिन 25 प्रतिशत आबादी के अनुसार हक पाने के लिए और संघर्ष की जरूरत है। राज्य सलाहकार समिति के संयोजक शंकर प्रसाद टेकरीवाल ने कहा कि वैश्य प्रबंधन जानते हैं लिहाजा जहां रहते हैं बेहतर करते हैं। अपने मंत्रित्वकाल में मैने क्रूड तेल के भंडार की जानकारी दी। सिंचाई व्यवस्था को मजबूत किया तो वित्त मंत्री की हैसियत से सरकार को ओवरड्राफ्ट से उबारा। हम बराबर देश की प्रगति और समृद्धि के बार में सोचते हैं।ड्ढr ड्ढr टुनटुन भगत राज्य इकाई के अध्यक्षड्ढr पटना(हि. ब्यू.)। बिहार वैश्य महासम्मेलन की सलाहकार परिषद की बैठक में रविवार को उमाशंकर भगत उर्फ टुनटुन भगत को राज्य इकाई का अध्यक्ष बनाया गया। बैठक में सलाहकार समिति के 18 सदस्यों के अलावा संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष गिरीश संघी और राष्ट्रीय युवा अध्यक्ष गोपाल मौर्य भी उपस्थित थे। सलाहकार समिति में कुल सदस्यों की संख्या 21 है। जमुई जिले के रहने वाले राज्य संगठन के नये अध्यक्ष श्री भगत ने बाद में संवाददाता सम्मेलन में वैश्य समाज से राजनीतिक दलों को चंदा देने से परहेा करने की अपील की। उन्होंने कहा कि एक माह में पूर राज्य में संगठन की नई टीम त्ैायार कर ली जायेगी। उसके बाद नई टीम के सदस्य समाज के हर सदस्य की जरूरतों को पूरा करने के लिए काम शुरू कर देगा। संवाददाता सम्मेलन में संगठन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जगन्नाथ गुप्ता के अलावा अरविन्द आदि भी उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: वैश्य कभी हारना नहीं जानता:संघी