DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डायबिटीचा रोगियों को हार्ट अटैक का खतरा

इंडोक्राइन सोसाइटी ऑफ इंडिया इस्टर्न जोन के कांफ्रेंस के दूसर दिन तकनीकी सत्र में कई बीमारियों पर विस्तार से चर्चा हुई। कोलकाता के डॉ सुदीप चटर्ाी ने इंटरासेक्स (उभयलिंग) के कारणों और इसके इलाज पर व्याख्यान दिया। उन्होंने कहा कि हार्मोन डिसऑर्डर के कारण बच्चों में यह भेद करना मुश्किल हो जाता है कि वह पुरुष होगा या स्त्री। इलाज से इस बीमारी को दूर किया जा सकता है। इसके अलावा नाटेपन की समस्या पर भी डॉ डे ने व्याख्यान दिया।ड्ढr वाराणसी से आये बीएचयू के डॉ एसके सिंह ने डायबिटीा की नयी दवाइयों के बार में जानकारी दी। पटना के डॉ अजय कुमार ने डायबिटीा और हार्ट अटैक के संबंधों के बार में बताया। उन्होंने कहा कि डायबिटीा रोगियों में हार्ट अटैक की आशंका अधिक होती है। सम्मेलन के विभिन्न सत्रों की अध्यक्षता डॉ शोभा चक्रवर्ती, डॉ उषा रानी, डॉ राजेश कुमार, डॉ कृष्ण कुमार, डॉ एस सिडाना ने की। सम्मेलन में झारखंड-बिहार, उड़ीसा से करीब 300 डॉक्टरों ने भाग लिया। कांफ्रेंस को सफल बनाने में डॉ संजय राय, डॉ विनय कुमार ढांढनिया, डॉ अजय छावड़ा, डॉ मधु शर्मा, अंजना, सुनीता, सबीना ने योगदान दिया।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: डायबिटीचा रोगियों को हार्ट अटैक का खतरा