अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चाो अब तक उपेक्षित थे उन्हें मिला सम्मान

हिन्दुस्तान प्रतिभा सम्मान समारोह में उपस्थित विभिन्न स्कूलों के प्राचार्यों ने हिन्दुस्तान के प्रयास की सराहना की। उन्होंने कहा कि इस तरह के कार्यक्रम का आयोजन कर हिन्दुस्तान ने हम सबका उत्साह बढ़ाया है। एमसीएम हाई स्कूल के प्राचार्य मोहम्मद शफी ने कहा कि हमार स्कूल में कमजोर बच्चे पढ़ने आते हैं, लेकिन स्कूल के शिक्षक परिश्रम कर उन्हें सफलता दिलाते हैं। एसे में उन्हें हिन्दुस्तान द्वारा सम्मानित किया जाना बड़ी बात है। आदर्श हाई स्कूल पोंचा (ओरमांझी) के प्राचार्य प्रद्युम्न पांडेय कहते हैं कि हमार स्कूल से प्रतिशत बच्चों को सफलती मिली है। हिन्दुस्तान ने हमें सम्मानित कर उन सभी बच्चों को प्रोत्साहित किया है, जो गांव में रहते हैं और उपेक्षा के शिकार होते हैं। आदर्श उच्च विद्यालय (मुरी) के प्राचार्य अनिल कुमार ने कहा कि हिन्दुस्तान की इस पहल से बच्चों में प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी। वे पुरस्कार पाने के लिए ज्यादा से ज्यादा मेहनत करंगे। हाई स्कूल तमाड़ प्लस टू के प्राचार्य शैलेंद्र का कहना है कि यह कार्यक्रम प्रेरित करनेवाला है। इससे बच्चों के साथ उनके अभिभावक और शिक्षक भी उत्साहित होते हैं। ऑक्सफोर्ड पब्लिक स्कूल के प्राचार्य डॉ एसबीपी मेहता ने कार्यक्रम की सराहना करते हुए इसे उत्साहवर्धक और प्रेरित करनेवाला कहा। मारवाड़ी वीमेंस कॉलेज की प्रभारी प्राचार्या डॉ प्रतिमा सिन्हा ने कहा कि हिन्दुस्तान ने प्रतिभाओं को सम्मानित करने के साथ-साथ उनमें आत्मविश्वास बढ़ाने का काम किया है। जीवन की पहली परीक्षा में सफलता पाकर उन्हें आगे बढ़ने में रास्ता दिखाने का काम किया है हिन्दुस्तान ने। इग्निशियस तंजीम हाई स्कूल के प्राचार्य शमी अहमद के स्कूल में इस बार प्रतिशत रिाल्ट हुआ है। उन्होंने कहा कि बच्चों की मेहनत को पहचान दिलाने का काम किया है हिन्दुस्तान ने। उसरुलाइन कॉंवेंट बालिका उच्च विद्यालय की प्राचार्या सिस्टर वर्जीनिया ने कहा कि हमार स्कूल में शत प्रतिशत रिाल्ट हुआ है। इसके लिए हमने काफी मेहनत की है। हिन्दुस्तान ने सफल विद्यार्थियों को सम्मानित कर हमार प्रयास को सराहा है। सेंट्रल स्कूल डोरंडा के प्राचार्य बीडी पांडेय कहते हैं कि स्कूल के बच्चों ने अपनी मेहनत से जो सफलता अर्जित की है, उसे और आगे बढ़ाया है हिन्दुस्तान ने।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चाो अब तक उपेक्षित थे उन्हें मिला सम्मान