अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बसपा के हाथी पर चढ़ा लाल रंग

यूपी की सीएम मायावती और माकपा महासचिव प्रकाश करात के बीच यहां एटमी डील पर अप्रत्याशित मुलाकात ने लोकसभा में अगले सप्ताह विश्वास मत जुटाने के लिए पाई-पाई का हिसाब लगा रही यूपीए सरकार की मुश्किलें बढ़ा दी हैं।पुराने साथी मुलायम सिंह की पार्टी के किनारा कर सरकार के समर्थन में जा खड़े होने से आहत करात सपा की कट्टर प्रतिद्वंद्वी बसपा नेता से मुलाकात के लिए रविवार दोपहर उनके निवास पहुंचे। करात ने बताया कि बसपा अध्यक्ष ने उन्हें पूरा यकीन दिलाया कि बसपा यूपीए सरकार को पराजित करने में पूरी ताकत लगा देगी। मायावती ने यह संकेत भी दिया कि वह कांग्रेस और सपा के दर्जन भर ऐसे सांसदों के संपर्क में हैं, जो सरकार के खिलाफ वोट दे सकते हैं। यह बात दूसरी है कि भाकपा महासचिव एबी बर्धन ने संप्रग सरकार पर उनकी पार्टी के सांसदों की खरीद-फरोख्त का आरोप लगाया। उन्होंने यह भी कहा कि वामदल सरकार के खिलाफ मत देने के लिए टीआरएस, देवेगौड़ा और अन्य छोटे दलों के साथ भी संपर्क में हैं। इस बीच मायावती ने टीडीपी नेता चंद्रबाबू नायडू से फोन पर बात की। टीडीपी सूत्रों के अनुसार नायडू व मायावती के बीच 1ाुलाई को दिल्ली में मुलाकात होनी है। ऐसे आसार हैं कि उसी दिन बसपा को सपा की जगह यूनएनपीए में शामिल कर लिया जायेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बसपा के हाथी पर चढ़ा लाल रंग