अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

माही बोले : पढ़ोगे लिखोगे बनोगे नवाब

विश्व के नंबर टू वनडे क्रिकेटर महेंद्र सिंह धौनी के लिए शिक्षा का क्या महत्व है, वह खुद तो समझ ही रहे हैं, साथ ही झारखंड के बच्चों को भी समझाना चाहते हैं। मंगलवार को सरकार के सर्वशिक्षा अभियान कार्यक्रम के तहत शिक्षा मंत्री बंधु तिर्की के बुलावे पर उनसे मिलने गये धोनी ने बच्चों से यह आह्वान किया कि खेलें जरूर, लेकिन पढ़ाई पर भी ध्यान दें।ड्ढr भारतीय कप्तान ने कहा कि वह जानते हैं कि राज्य के हाारों बच्चों की पढ़ाई बीच में ही छूट रही है, यह चिंतनीय है। उन्होंने बच्चों से आग्रह किया कि पढ़ाई के महत्व को समझें। लापरवाही न करं। उन्होंने अपना उदाहरण देते हुए कहा कि वह खुद ग्रैजुएशन करने की कोशिश में हैं। उन्होंने यहां तक कहा कि ग्रैजुएशन के बिना इज्जत नहीं। धौनी ने शिक्षा मंत्री से आग्रह किया कि ड्रॉपआउट बच्चों को वापस लाने की कोशिश करं।ड्ढr इस अवसर पर उन्होंने खेल विभाग के वार्षिक खेल कैलेंडर का भी विमोचन किया। बाद में धौनी ने बताया कि वह इसी सत्र में स्नातक कोर्स में दाखिला लेने की सोच रहे हैं, प्रक्रिया जारी है। उन्होंने खेल विभाग के अधिकारियों से राज्य में होनेवाले राष्ट्रीय खेल के संबंध में भी जानकारी ली। उम्मीद है कि एक-दो दिन में धौनी होटवार स्थित खेल गांव और मेगा स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स का जायजा लेने के लिए जायेंगे।ड्ढr इस अवसर पर शिक्षा सचिव जेबी तुविद, खेल निदेशक पीसी मिश्र, उपमहापौर अजय शाहदेव आदि मौजूद थे। धौनी के सचिवालय पहुंचते ही देखने के लिए सचिवालयकर्मी निकल आये।। कर्मचारी माही का ऑटोग्राफ लेना चाहते थे। उन्होंने कइयों को ऑटोग्राफ दिये भी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: माही बोले : पढ़ोगे लिखोगे बनोगे नवाब