अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उम्मीदवार के नाम पर नहीं बनी सहमति

नेपाल के प्रमुख राजनीतिक दलों में देश के पहले राष्ट्रपति पद के लिए किसी साझे उम्मीदवार के नाम पर सहमति नहीं बन सकी है। अब संविधान सभा में 1ाुलाई को मतदान के जरिए ही इस मुद्दे पर फैसला होगा। नेपाली कांग्रेस के प्रवक्ता अर्जुन नरसिंह ने कहा कि नेपाली कम्युनिस्ट पार्टी- माओवादी (नेकपा-माओवादी) , नेपाली कांग्रेस (नेकां) और नेपाली कम्युनिस्ट पार्टी-एकीकृत माक्र्सवादी लेनिनवादी (नेकपा-ऐमाले) बुधवार को राष्ट्रपति पद के लिए किसी एक व्यक्ित के नाम पर एकमत नहीं हो सके। नतीजतन अब चुनाव के जरिए ही इस मुद्दे का फैसला होगा। राजनीतिक दलों को बुधवार की शाम 5:00 बजे तक राष्ट्रपति पद के लिए किसी ऐसे एक व्यक्ित का नाम देना था, जिस पर सभी दलों की सहमति हो। लेकिन राजनीतिक दल ऐसा करने में असफल रहे। 605 सदस्यीय संविधान सभा ने मंगलवार को घोषणा की थी कि पहले राष्ट्रपति का चुनाव शनिवार को होगा और इसमें मतदान करने वालों की सूची बुधवार को जारी कर दी जाएगी। संविधान सभा के सभी सदस्यों को राष्ट्रपति व उपराष्ट्रपति चुनाव में मतदान करने का अधिकार है और कोई भी नेपाली नागरिक इस चुनाव में बतौर उम्मीदवार खड़ा हो सकता है। राष्ट्रपति पद का चुनाव लड़ने के इच्छुक उम्मीदवारों को गुरुवार को अपना नामांकन कराना होगा और इसके बाद उनके पास अपने पक्ष में प्रचार करने के लिए एक दिन का समय बचेगा। वे 18 जुलाई को मतदाताओं से मिलकर अपने लिए वोट मांग सकते हैं। नेपाली कांग्रेस ने निवर्तमान प्रधानमंत्री गिरिाा प्रसाद कोइराला का नाम पहले राष्ट्रपति पद के लिए प्रस्तावित किया था, जिसे माओवादियों ने खारिा कर दिया था। माओवादियों ने राष्ट्रपति पद के लिए नेकपा-एमाले के नेता माधव कुमार नेपाल के नाम को भी अमान्य कर दिया था और इस पद पर नागरिक समाज से किसी व्यक्ित को लाने की इच्छा जताई थी। संविधान सभा चुनाव में अकेले सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरने वाली नेकपा-माओवादी को सरकार बनाने के लिए नेकां या नेकपा-एमाले में से किसी एक के समर्थन की दरकार होगी। माओवायिों को इन दोनों पार्टियों में से किसी एक के उम्मीदवार को समर्थन देना होगा ताकि उन्हें सरकार बनाने में समर्थन मिल सके।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: उम्मीदवार के नाम पर नहीं बनी सहमति