DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वाटर सेक्टर रिस्ट्रक्चरिंग प्रोजेक्ट के काम में तेचाी

प्रदेश के सिंचाई मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी व विश्व बैंक के प्रतिनिधि हैवीयरोुलेटा ने वाटर सेक्टर रिस्ट्रक्चरिंग प्रोजेक्ट के परियोना स्थलों का बुधवार को मुआयना किया। सिंचाई मंत्री ने निर्देश दिया कि कार्यो की गुणवत्ता में कोई कमी न आने दी जाए और तय समय पर काम पूरे कर लिए जाएँ। अधूरा काम भी शीघ्र निपटायाोाए। विश्व बैंक प्रतिनिधि श्री जुलेटा ने परियोजना की अब तक की प्रगति पर संतोषोताते हुए कहा कि बीते एक साल में काम में काफी तेजी आई है। इससे लगता है कि काम समय पर पूरा हो जाएगा। उन्होंने दूसर चरण का प्रस्ताव बनाकर भेजने के लिए कहा।ड्ढr इससे पहले श्री सिद्दीकी व बैंक के प्रतिनिधियों की बैठक में तय किया गया कि परियोना के दूसर चरण में बुन्देलखण्ड और गोमती-घाघरा बेसिन क्षेत्र में सिंचाई सुविधाओं के विस्तार को शामिल किया जाएगा।ड्ढr बैठक में परियोजना के प्रथम चरण के कार्यो की अच्छी प्रगति के मद्देनार इसके नवीनीकरण का प्रस्ताव बना कर अक्टूबर 2008 तक विश्व बैंक को भेजने का निर्णय हुआ।ड्ढr सिंचाई मंत्री और विश्व बैंक के प्रतिनिधियों ने हरदोइया हैदरगढ़ के पास शारदा सहायक नहर की हैदरगढ़ शाखा, जौनपुर नहर शाखा गुन्नौर, पिकौरा गाँव के पास जौनपुर नहर शाखा पर क्रास रगुलेटर पर चल रहे निर्माण कार्यो और सहबाबापुर हाजी पट्टी पर पुल का निर्माण एवं पिपरपुर ड्रन के कार्यो का स्थलीय निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान प्रमुख सचिव सिंचाई मंजीत सिंह, पैक्ट के अध्यक्ष अवनीश कुमार अवस्थी व मुख्य अभियन्ता के.डी. शुक्ला समेत परियोजना सेोुड़े इांीनियर मौजूद थे।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: वाटर सेक्टर रिस्ट्रक्चरिंग प्रोजेक्ट के काम में तेचाी