DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजभाषा की प्रगति के लिए संयुक्त प्रयास जरूरी

सीसीएल के सीएमडी आरपी रिटोलिया ने कहा कि राजभाषा की प्रगति के लिए संयुक्त प्रयास की जरूरत है। ग्लोबलाक्षेशन के इस युग में देश में एक-दूसर से जुड़ने का माध्यम आज हिंदी ही है। नगर राजभाषा कार्यान्वयन समिति अपने कार्यो के माध्यम से छवि का निर्माण करं।ड्ढr क्षेत्रीय कार्यान्वयन कार्यालय पूर्व क्षेत्र के उप निदेशक अजय मल्लिक ने हिंदी में काम करने, हिंदी सीखने-सिखाने के लिए सरकार एवं गैर सरकारी स्तर पर हुए प्रयास और इंटरनेट सुविधा की सूचना दी। कहा कि कंप्यूटर एवं इंटरनेट पर हिंदी एवं भारतीय भाषाओं में काम करने की सभी सुविधाएं मौजूद हैं। जानकारी रहने पर यह संभव है। मेकन के निदेशक एमके देशमुख ने कहा कि हिंदी में काम करने में कभी कठिनाई महसूस नहीं होनी चाहिये।ड्ढr बैंकों की राजभाषा कार्यान्वयन समिति की बैठक को संबोधित करते हुए इलाहाबाद बैंक के उप महाप्रबंधक पीएस भाटिया ने कहा है कि आजादी के 60 वर्ष बाद भी सरकारी कामकाज में हिंदी को उसका उचित स्थान नहीं मिला। हिंदी भाषा के लिए यह खेद की बात है। अब समय आ गया है कि हम सब हिंदी को बढ़ावा देने के लिए सक्रिय हो जायें। उप निदेशक कार्यान्वयन (कोलकाता) अजय मलिक ने कहा कि हिंदी एक सक्षम भाषा है।ड्ढr सीसीएल बना संयोजकड्ढr रांची नगर राजभाषा कार्यान्वयन समिति का संयोजक सीसीएल को बनाया गया। समिति के अध्यक्ष सीसीएल के सीएमडी बनाये गये हैं। पिछले 23 वर्षो से मेकन के संयोजन में यह काम कर रही थी। केंद्रीय कार्यालय, राष्ट्रीयकृत बैंक, वित्तीय संस्थानों एवं केंद्रीय सरकार के उपक्रमों के लिए तीन अलग-अलग समिति गठित की गयी है। यह जानकारी सीसीएल के पीआरओ दीपक कुमार ने दी।ड्ढr सीवीसी मीट आज सेड्ढr आइआइसीएम में मुख्य सतर्कता पदाधिकारियों का दो दिवसीय मीट 17 एवं 18 जुलाई को होगा। इसमें विभिन्न मुद्दों की समीक्षा भी की जायेगी। इर्स्टन जोन के सभी कंपनियों के सीवीओ के इसमें भाग लेने की उम्मीद है। कार्यशाला में मुख्य सतर्कता आयुक्त प्रत्युष सिन्हा, कोयला सचिव एचसी गुप्ता, कोल इंडिया के चेयरमैन पार्थ भट्टाचार्य भी आ सकते हैं। इसके अलावा कंपनियों के सीएमडी और निदेशक भी रहेंगे। ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राजभाषा की प्रगति के लिए संयुक्त प्रयास जरूरी