अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दलित बच्चों ने बिखेर जलवे

दलितों को शिक्षित कर ही उनसे जागृत संगठित कर उनके समाज का उत्थान किया जा सकता है। उक्त बातें आचार्य किशोर कुणाल ने शोषित समाधान केन्द्र के द्वितीय स्थापना दिवस पर कहीं। आचार्य कुणाल ने कहा कि दलित का सबसे बड़ी समस्या शिक्षा है। शिक्षा की मुख्यधारा से जोड़कर ही उनका विकास हो सकता है। उन्होंने कहा कि कई दलितों को मंदिर में पुजारी बनाया जा रहा है। इस मौके पर बच्चों ने रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम के जरिए जलवे बिखेर कर सबका मन मोह लिया।ड्ढr समारोह में पूर्व डीजीपी एसपी सहाय ने कहा कि प्राइमरी स्तर पर शिक्षा में सुधार लाया जा सकता है। इनके अलावा डा. ए हई, सुरश बमना, चेतन कुमार, पूर्व डीजीपी आरआर प्रसाद ने भी विचार व्यक्त किये। केन्द्र के संस्थापक जेके सिन्हा ने कहा कि समाज के सबसे नीचे दबे कुचले समुदाय के बच्चों को उच्च कोटि की शिक्षा देकर उनको समाज के बदलाव लाया जा सकता है। श्री सिन्हा ने कहा कि जब कल्याण मंत्री से समारोह में भाग लेने का अनुरोध किया तो उन्हें बताया कि राज्य में एनजीओ ने मुसहर बच्चों के उत्थान के लिए अबतक 1600 करोड़ खर्च किए जा चुके हैं। उन्होंने बताया कि बच्चों को साइंस, गणित व अंग्रजी की शिक्षा दी जाती है। उन्होंने सरकार से डेढ़ एकड़ में आवासीय विद्यालय खोलने की मांग की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: दलित बच्चों ने बिखेर जलवे