DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बेहतर आरआर पॉलिसी स्वीकार : पार्थ

ोल इंडिया चेयरमैन पार्थ भट्टाचार्य ने कहा कि कंपनी किसी भी राज्य की बेहतर विस्थापन एवं पुनर्वास नीति स्वीकार करगी। कंपनी ने नौकरी और मुआवजा दोनों का विकल्प खुला रखा है। हर दो एकड़ पर नौकरी देने का निर्णय लिया गया है। किसी प्रोजेक्ट में 100 एकड़ जमीन लेने पर 50 व्यक्ित को नौकरी मिलनी तय है। इस क्रम में एक एकड़ से कम जमीनवाले को भी लाभ मिल सकता है। मुआवजे की रकम भी दो गुनी कर दी गयी है। वह 17 जुलाई को प्रेस से बात कर रहे थे। चेयरमैन ने कहा कि प्रोजेक्ट के लिए जमीन देनेवालों का जीवन स्तर उठाना ही उद्देश्य है। पॉलिसी में कम्यूनिटी इंगेजमेंट के लिए बजट का प्रावधान किया गया है। यह पूछने पर कि टैलेंट को अन्यत्र जाने से रोकने के लिए क्या कदम उठाये जा रहे हैं, उन्होंने कहा कि टैलेंट बाहर नहीं जा रहा है। किसी कंपनी से 10 प्रतिशत कर्मियों का आना-ााना अभी बेहतर माना जाता है। पिछले साल कोल इंडिया से मात्र 160 अधिकारियों ने इस्तीफा दिया है। यहां 16000 अधिकारी हैं।ड्ढr इ-लाइब्रेरी और इ-न्यूज लेटर का शुभारंभड्ढr सीएमपीडीआइ में इ-लाइब्रेरी और इ-न्यूज लेटर का शुभारंभ कोल इंडिया चेयरमैन पार्थ भट्टाचार्य ने किया। लाइब्रेरी में कर्मियों को उद्योग से संबंधित कई प्रकार की तनकीकी सूचनाएं मिल सकेंगी। यहां हर कोल फील्ड, पॉलिसी, ज्यूलॉजी आदि की सूचना उपलब्ध है। डिािटल लाइब्रेरी एवं ज्ञान प्रबंधन का निर्माण करने के लिए आधुनिक तकनीक का उपयोग किया गया है। इसे सूचना किओस्क एवं मल्टीमीडिया से लैस किया गया है। इ-न्यूज लेटर मल्टी मीडिया एवं नॉलेज अपडेट से परिपूर्ण डिािटल गृह पत्रिका है। इसमें भारतीय कोयला खनन उद्योग से संबंधित तकनीकी आलेखों के सारांश का संग्रह है। मौके पर कंपनी के सीएमडी एके सिंह, एसइसीएल के सीएमडी बीके सिन्हा, निदेशक एके देबनाथ, एसके मित्रा, विनय दयाल, आरआर मिश्र, एनके सिंह मौजूद थे।ड्ढr पांच बड़ी खदानें खुलेंगीड्ढr कोल इंडिया शीघ्र ही पांच बड़ी भूमिगत खदान खोलेगी। चेयरमैन पार्थ भट्टाचार्य के अनुसार यह पांच विभिन्न कंपनियों में होगा। इसके लिए निकाले गये टेंडर में 17 ब्रीडरों ने हिस्सा लिया। इनमें पांच विश्वस्तरीय हैं। उन्होंने बताया कि पिछले वर्ष यूजी से उत्पादन में गिरावट नहीं आयी है।ड्ढr लैंड रिक्लेमेशन भी प्राथमिकता सूची मेंड्ढr कोल इंडिया ने लैंड रिक्लेमेशन को भी प्राथमिकता सूची में रखा है। पीओ के प्रदर्शन में अब इसे भी देखा जायेगा। सीएमपीडीआइ ने सेटेलाइट से 43 ऐसे प्रोजेक्ट चिह्न्ति किये हैं। इनकी वर्तमान स्थिति का फोटो लिया है। चेयरमैन पार्थ भट्टाचार्य ने बताया कि एक साल बाद पुन: इसका फोटो लिया जायेगा। देखा जायेगा कि एक साल में इसमें कितना काम हुआ है। उत्पादन के साथ अब इसे भी देखा जायेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बेहतर आरआर पॉलिसी स्वीकार : पार्थ