अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पीएफ घोटाले में केन्द्र व यूपी को नोटिस

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को करोड़ों रुपए के पीएफ घोटाले के मामले से संबंधित याचिका की सुनवाई के दौरान राय व केन्द्र सरकार को नोटिसोारी किया है। प्रधान न्यायाधीश केाी बालाकृष्णन की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने एक याचिका की सुनवाई के दौरान केन्द्र और उप्र सरकार के प्रमुख सचिव (गृह) को एक अगस्त तक नोटिस काोवाब देने को कहा है। याचिका में 26 वर्तमान और पूर्वोाों का नाम आने के कारण इसकी निष्पक्षोाँच की माँग की गई थी।ड्ढr इससे पहले सुनवाई के दौरान एक वकील और प्रधान न्यायाधीश के बीच थोड़ी बहस भी हुई। एक वकील ने दलील दी कि चूँकि मामले में सुप्रीम कोर्ट के एकोा का भी नाम है इसलिए प्रधान न्यायाधीश इसकी सुनवाई न करं। बालाकृष्णन ने कहा-‘अगर वकील साहब चाहते हैं कि मैं मामले की सुनवाई न करुँ तो उन्हें इसके लिए याचिका दाखिल करनी होगी।’ वकील शांति भूषण ने एक खबर का हवाला देते हुए कहा कि प्रधान न्यायाधीश ने गााियाबाद के एसएसपी से एक प्रश्नावली तैयार करने को कहा है,ोो आरोपितोाों के खिलाफोाँच का आधार होगी।ड्ढr प्रधान न्यायाधीश ने कहा, ‘यह मामला प्रशासनिक पक्ष सेोुड़ा है। एसएसपी ने मुझसे अनुमति माँगी थी और मैंने उन्हें इसकी क्षाात दे दी। अगर आप मेर फैसले को चुनौती देना चाहते हैं तो इसके लिए स्वतंत्र हैं। आपको दूसरी याचिका दाखिल करनी होगी। फिर कोई और पीठ मामले की सुनवाई करगी।’

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पीएफ घोटाले में केन्द्र व यूपी को नोटिस