DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कोसी के कई गांव जलमग्न

ोसी प्रमंडल के पूर्णिया जिले के अमौर व वैसा प्रखंड एवं अररिया जिले के जोकीहाट प्रखंड के दर्जनों गांवों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है। हाारों हेक्टेयर में लगी अगहनी धान एवं जूट की फसलें नष्ट हो गयी हैं। बाढ़ की तेजधारा में ग्रामीण सड़कें जगह-ागह टूट जाने से कई पंचायतों का संपर्क टूट गया है। उत्तर बिहार के जलग्रहण क्षेत्र में रुक-रुक कर हो रही बारिश से गुरुवार को नदियों के जलस्तर में वृद्धि जारी रही। सीतामढ़ी जिले में नाव पलटने से शहनाजा खातून (14 वर्ष) व अशोक कुमार सिंह (25 वर्ष) डूब गये। जिससे दोनों की मौत हो गयी वहीं नाव पर सवार 13 अन्य तैरकर बाहर आ गये। इसमें पांच की हालत गंभीर है।ड्ढr ड्ढr मुजफ्फरपुर के मीनापुर प्रखंड के रामपुरहरी गांव में बागमती की पुरानी धारा को पार करने के दौरान परशुराम सिंह (42 वर्ष) की डूबकर मौत हो गयी। सुपौल जिले के मरौना प्रखंड के तुलसियाही गांव के मुसहरी टोला के 75 मुसहरों का घर कोसी में विलीन हो गये। बगहां के पुअरहाउस, पीपरासी के भैंसहिया में कटाव जारी है, जबकि भीतहां के सेमरवारी व धनहा में पीपी तटबंध पर दबाब कायम है। सीतामढ़ी जिले में जहां बागमती स्थिर है वहीं अधवारा समूह व लखनदेई के जलस्तर में वृद्धि हो रहा है। धौंस नदी के जलस्तर में वृद्धि से मधुबनी जिले के बेनीपट्टी-पुपरी-मधुबनी सड़क सम्पर्क भंग हो गया है। मुजफ्फरपुर जिले के औराई में बागमती व लखनदेई का जलस्तर स्थिर हो गया है। लखनदेई के तटबंध पर धसना, चहुटा व औराई में कटाव हो रहा है। धसना में तो तटबंध मात्र एक फीट बच गया है जो किसी भी क्षण टूट सकता है।ड्ढr ड्ढr रोसड़ा (समस्तीपुर) में कोसी नदी के पूर्वी क्षेत्र में असमा सकीरना तटबंध के टूट जाने से कई पथों पर एक से दो फुट पानी चल रहा है। सिंघिया प्रखंड क्षेत्र के कंकारी, डोरकाही, निउरी, जीव डिहुली भीरहार सहित दर्जनों गांवों में पानी लगातार बढ रहा है। जिससे लक्ष्मीनियां-केाारा मुख्य पथ, सिंघिया-पनसल्ला पथ, पनसल्ला-ठनहो पथ, डेह-बस्ती मुख्य पथ पर आवागमन पूरी तरह ठप हो गया है। पानी के लगातार बढ़ने से लोग सुरक्षित स्थान की तलाश में पलायन करने लगे हैं। पुपरी बाजपट्टी (सीतामढ़ी) : बाजपट्टी थाना के आवापुर घाट के समीप गुरुवार को अधवारा नदी में नाव पलटने से दो लोगों की डूबकर मौत हो गयी। उधर, बाजपट्टी गोट की सरिया खातून, सुदामा देवी, पति प्रगाश मुखिया, सुंदर देवी पति बिंदी मुखिया तथा 13 वर्षीय साजन कुमार, पिता बिंदी मुखिया को गंभीर हालत में नदी से निकाला गया। जबकि शेष लोग खुद तैर कर बाहर निकले। निजी नाव पर करीब 15 लोग सवार थे तथा बीच धार में संतुलन बिगड़ने से यह घटना हुई।ड्ढr ड्ढr बेनीपट्टी (मधुबनी) : धौंस नदी सोइली घाट के निकट खतर के निशान को गुरुवार को पार कर गयी है। बेनीपट्टी-पुपरी सड़क के बीच के लोहापुल में दरार आने से पुपरी का बेनीपट्टी से सड़क संपर्क भंग हो गया है। सरिसव गांव के निकट बछराजा नदी में उफान से मधुबनी-बेनीपट्टी के बीच नदी में बना डायवर्सन बह गया है। अमौर एवं बैसा प्रखंड की एक दर्जन से अधिक पंचायतें बाढ़ से प्रभावित हैं। इन दोनों प्रखंडों से गुजरने वाली परवान, पनार, कनकई, डाक एवं महानंदा नदियों की उफनती जलधारा तटों को पार कर गांव-गांव में बाढ़ की विनाशलीला शुरू कर दिया है। जोकीहाट (अररिया) प्रखंड से होकर गुजरने वाली बकरा एवं परमान नदी में गुरुवार को आये उफान से कोचाटिक्कर, बीटा टोला, बोरिया, बगढ़हरा, मसूरिया, चौकता, इसरवा, बडड़ेंगा, करहरा, मछैला, कैलाबाड़ी, भूना सहित अन्य गांवों में बाढ़ का पानी घुस गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कोसी के कई गांव जलमग्न